संवाद सूत्र, किशुनपुर : किशुनपुर-दांदो घाट के बीच यमुना नदी में पीपा पुल का निर्माण युद्ध स्तर पर चल रहा है। अक्टूबर महीने में तैयार होने वाले पीपा पुल का निर्माण एक बार फिर से दो महीने देरी से शुरू हुआ है। पुल निर्माण न होने से फतेहपुर-बांदा जनपद का आवागमन नाव के सहारे होता है। किशुनपुर-दांदो घाट के बीच यमुना नदी में विगत तीन दशक से पीपा पुल निर्माण होता आ रहा है। कार्यदाई संस्था पीडब्ल्यूडी द्वारा प्रति वर्ष पुल निर्माण कराया जाता है। कस्बे के लोगों का कहना था नियमत: अक्टूबर महीने में पुल निर्माण पूरा हो जाना चहिए। इसके बावजूद समय से पीपा पुल निर्माण नहीं होता है। पुल बनने के बाद फतेहपुर-बांदा जनपद के बीच आवागमन की सुगमता होती है। पीपा पुल निर्माण न होने से दो पहिया, चार पहिया, ट्रैक्टर आदि वाहनों को लेकर लोग नाव से नदी पार करते हैं। किशुनपुर कस्बा स्थित बैंक, बाजार और गल्ला मंडी में पीपा पुल चालू होने के बाद से चहल-पहल बढ़ जाती है। स्कूली छात्र, छात्राओं, किसान, व्यापारी व बीमारी से पीड़ित व्यक्ति को पीपा पुल चालू होने के बाद सहूलियत मिलती हैं। कस्बा निवासी विनोद कुमार, दुर्गा गुप्त, विजय ¨सह, रमेश गुप्त तथा छोटू अग्रवाल आदि लोगों का कहना था कि इस वर्ष पीपा पुल निर्माण दो महीने देरी से शरू हुआ है। पुल निर्माण का काम जिस रफ्तार से चल रहा है। उसमे जनवरी महीने के अंत तक आवागमन बहाल हो पाना मुश्किल लग रहा है। ........

क्या कहते जिम्मेदार - यमुना नदी में पानी बढ़ने की वजह से काम देरी से शुरू कराया गया है। स्लीपर व दूसरी निर्माण सामग्री आने में समय लग गया। 20 जनवरी तक पीपा पुल से आवागमन शुरू कराने का प्रयास चल रहा है। यदि पानी बढ़ जाता है तो समय से काम पूरा होना मुश्किल होगा।

- आरके कुश्वाहा, अवर अभियंता लोक निर्माण विभाग

By Jagran