संवाद सहयोगी, बिदकी : मंडी के बाहर आढ़त सजाकर काम कर रहे 22 आढ़तियों को मंडी सचिव ने लाइसेंस की शर्तो का उल्लंघन करने का नोटिस जारी किया है। मौके पर हजारों क्विटल धान का डंप मिला है। कोई भी आढ़ती डंप धान का लेखाजोखा तत्काल नहीं दिखा पाया। इस पर सभी से दैनिक खरीद की विवरणी भी मांगी गई है।

जागरण ने पेज गुरुवार के अंक में बिहार के कागज से लाखों रुपये मंडी शुल्क की चोरी की खबर प्रकाशित की थी। इस खबर के बाद मंडी प्रशासन हरकत में आया। तब खुलासा हुआ कि मंडी से व्यापार का लाइसेंस लेकर धान खरीद करने वाले 22 आढ़तियों ने बिना सूचना दिए धान खरीद के लिए बाहर आढ़त बना रखी है। इसके साथ ही प्रतिदिन खरीद का विवरण भी मंडी कार्यालय को नहीं दे रहे हैं। आढ़तियों के यहां भारी मात्रा में धान का डंप लगा है। मंडी सचिव ने इसे सीधे लाइसेंस की शर्तो के प्रतिकूल मानते हुए नोटिस जारी कर तीन के अंदर दैनिक खरीद विवरणी के साथ जवाब मांगा है। मंडी सचिव ने मंडी के बाहर लगे धर्मकांटों के संचालकों से भी गाड़ियों के तौल का रिकार्ड तलब किया है। उनके कंप्यूटर में दर्ज डाटा व रजिस्टर से खरीद का मिलान किए जाने की तैयारी चल रही है। कार्रवाई के दौरान कई धर्मकांटे के कर्मचारी मौके से खिसक गए। इस पर धर्मकांटे के संचालकों से भी तौल का वितरण मांगा गया है। मंडी सचिव उमेश अवस्थी ने बताया मंडी के बाहर व्यापार करना लाइसेंस के शर्त के प्रतिकूल है। कहने के बाद भी आढ़तियों ने प्रतिदिन की खरीद का विवरण नहीं दिया है। इनका स्पष्टीकरण आने के साथ ही अग्रिम कार्रवाई प्रस्तावित की जाएगी। बाहर लगे धर्मकांटो पर भी नजर रखी जाएगी। आढ़तियों को बता दिया गया है कि ट्रक में हरियाणा, पंजाब या फिर अन्य कहीं जाने के लिए धान लोड करने से पूर्व सूचना देनी होगी।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप