फतेहपुर, जागरण संवाददाता। Mishap in Fatehpur रुक रुककर हो रही वर्षा के दौरान बकेबर थाने के बरिगवां गांव में कच्चे मकान की छत ढह जाने से खाना बना रही महिला की मलबे में दबकर मौत हो गई। पुत्री गंभीर रूप से घायल हो गई। जिसका जिला अस्पताल में इलाज चल रहा है। घटना की सूचना पर प्रशासन व पुलिस के अधिकारी मौके पर पहुंचे। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जनहानि पर गहरा दुःख व्यक्त किया है। साथ ही मृतक के स्वजन के प्रति संवेदना व्यक्त की है।

गांव के राम औतार यादव बुधवार की सुबह खेतों में काम करने गए। घर में 45 वर्षीय पत्नी उर्मिला यादव, 22 वर्षीय पुत्री मानसी व 20 वर्षीय शालिनी मौजूद थी। महिला खाना बना रही थी, तभी दोपहर में कोठरी की छत ढह गई। दोनों पुत्रियां बाहर की ओर भागीं तो बड़ी मानसी पर दरवाजे से पहले ही मलबा गिरा और दब गई। छोटी पुत्री ने बाहर आकर जान बचाई और शोर मचाया। शोर सुनकर गांव के लोग दौड़कर पहुंचे।

मलबे में दबी पुत्री को बाहर निकाला। महिला को मलबे से बाहर निकालने में आधे घंटे से अधिक का समय लग गया। घायल मां बेटी को इलाज के लिए सीएचसी जहानाबाद ले जाया गया। जहां पर महिला को चिकित्सक ने मृत घोषित कर दिया। गंभीर हालत में पुत्री को इलाज के लिए जिला अस्पताल भेज दिया गया। एसडीएम अंजू वर्मा ने बताया कि महिला की मौत छत गिरने से मलबे में दबकर हुई है। परिवार को आर्थिक मदद दिए जाने की कार्रवाई पूरी की जा रही है।

गांव पहुंची केंद्रीय मंत्री

घटना की जानकारी होने पर केंद्रीय मंत्री साध्वी निरंजन ज्योति व विधायक राजेन्द्र पटेल मौके पर पहुंचे। दुखी परिवार को हर संभव मदद का भरोसा दिया।

परिवार विद्यालय में किया गया शिफ्ट

एसडीएम के निर्देश पर पीड़ित परिवार के सदस्यों को उच्च प्राथमिक विद्यालय में ठहराया गया है। इसके अलावा गांव के बैजनाथ के परिवार को भी विद्यालय में शिफ्ट किया गया है। बारिश में इनका मकान गिरने की संभावना है। 

Edited By: Abhishek Agnihotri

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट