जागरण संवाददाता, फतेहपुर: कम हो रहे वन क्षेत्र और खिसकते जल स्तर की चिता करते हुए सरकार ने पौधरोपण पर विशेष जोर दिया है। जिले के डार्कजोन वाले नौ ब्लॉक क्षेत्रों में 24 लाख से अधिक पौधे रोपने का लक्ष्य रखा गया है। प्रयास है कि अधिक से अधिक पौधरोपण कर यहां वन क्षेत्र बढ़ाया जाए, जिससे भूगर्भ जल की स्थिति सुधरे और पर्यावरण को भी फायदा मिले। पहली बार ऐसा होगा जब दोआबा की धरती का हरियाली से श्रृंगार होगा।

पौधरोपण के लिए 840 ग्राम पंचायतों में 1720 हेक्टेयर की जमीन चिह्नित की गयी है। इस जमीन में वह लोग भी शामिल हैं, जिनके मनरेगा से जाबकार्ड बने हैं। पौधारोपण में छायादार व फलदार पौधों के साथ औषधीय पौधों को भी मान्यता दी गई है। जाबकार्ड धारक जहां पौधे अपनी भूमिधर जमीन की मेडों में पौधा लगा सकेंगे तो पंचायतें ग्राम समाज की जमीनों में भी रोपण करा सकती हैं। खास बात यह है कि पौधा खरीदने से लेकर गड्ढा खोदने तक का भुगतान मनरेगा से किया जाएगा। जो ट्रीगार्ड भी इन पौधों में लगाए जाएंगे वह बांस से बने हुए होंगे और प्रत्येक ट्री गार्ड का भुगतान पांच सौ रुपये ग्राम पंचायतें कर सकती है।

3.80 लाख गड्ढे तैयार-उपायुक्त

उपायुक्त मनरेगा पुतान सिंह ने बताया कि पौधारोपण के लिए कार्य शुरू करा दिया है, चिह्नित जमीनों में 3.80 लाख गड्ढे खोद कर तैयार कर दिए हैं। अब भी काम जारी है चूंकि पौधारोपण जुलाई से प्रारंभ होना है उससे पहले लक्ष्य के अनुपात में शत प्रतिशत गड्ढे तैयार कराए जाएंगे।

ग्रामीण क्षेत्र में लगेंगे 1561600 पौधे

ब्लाक पंचायत चिह्नित भूमि पौधों की संख्या

अमौली 66 135.27 122755

देवमई 63 129.00 117055

खजुहा 74 152.00 137955

मलवां 72 147.03 134155

तेलियानी 57 116.41 105640

भिटौरा 81 166.66 151255

हसवा 58 118.52 107555

बहुआ 59 120.62 109455

असोथर 47 95.49 86655

हथगाम 75 154.12 139855

ऐराया 56 114.34 103755

विजयीपुर 64 131.00 118955

धाता 68 139.46 126555

नोट- भूमि की नाप हेक्टेयर में पढ़ी जाए।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस