संवाद सूत्र, जहानाबाद : बीमारी से जूझ रहे सरांय धरमपुर में भले ही स्वास्थ्य शिविर लगाया गया हो, लेकिन बीमारी से राहत नहीं है। अब क्षेत्र का कलाना गांव भी इसकी चपेट में आ गया है। वायरल फीवर से जूझ रहे अंश कुमार पुत्र सतेंद्र उत्तम की रविवार की सांसे थम गर्ई। जबकि गांव में अब भी 50 से अधिक लोग वायरल फीवर की चपेट में हैं। अंधेर यह है कि पिछले छह दिनों से बढ़ रही बीमारी का हाल-खबर लेने यहां कोई नहीं पहुंचा। मौत के बाद जब गांव सुर्खियों में आया तो स्वास्थ्य टीम ने यहां सोमवार को कैंप करने का बात कही।

कलाना गांव में फैली बीमारी से बच्चे की मौत की सूचना पर जब ब्लाक प्रमुख कुश वर्मा पहुंचे तो उन्होंने इसकी जानकारी चिकित्सा अधिकारी को दी और यहां पर बीमारों को स्वास्थ्य सुविधा दिए जाने की मांग की। उधर गांव में आठ वर्षीय बच्चे की मौत से हर घर के बीमारों में दहशत फैल गयी है। अंश के पिता सतेंद्र के अनुसार वह बेटे का उपचार जहानाबाद के एक निजी अस्पताल में करा रहे थे। डाक्टरों ने वायरल फीवर बताया था, रविवार को सायं 4 बजे उसकी हालत बिगड़ गयी, जवाब होने पर वह उसे सरकारी अस्पताल ले गए जहां चिकित्सक ने बेटे को मृत घोषित कर दिया। ग्रामीणों का कहना है गांव में फैली गंदगी के कारण बीमारी बढ़ी है। गांव किनारे के तालाब में कूड़ा डालने से हो रही है। देवमई चिकित्साधीक्षक डॉ. रघुराज ने कहा कि उन्हें गांव में बीमारी फैलने की सूचना नहीं थी, सोमवार वह अपनी टीम भेजेंगे, ताकि गांव में स्वास्थ्य कैंप लगाया जा सके। गांव में यह है बीमार

गांव में मीना देवी, सुंदरा देवी, मोनू, रीता देवी, ननकी, सुषमा, पप्पू, सुरेश चंद्र, सत्य बहादुर, संजय पटेल, विजय भुर्जी, लालता, जागेश्वर पाल, अमर सिंह, जय सजीवन, प्रमोद सैनी, सुधीर पाल, चंकी उत्तम, केसरिया, अभिषेक उत्तम, शिखा पाल, अंशिका, रानी पाल, जितेंद्र, छेदालाल समेत 50 लोग बुखार से जूझ रहे हैं। इनसेट...

आशा व एएनएम से स्पष्टीकरण

सीएमओ डॉ. उमाकांत पांडेय ने कलाना गांव की एएनएम और आशा बहू को बीमारी फैलने की सूचना न देने पर स्पष्टीकरण लिया जाएगा। सोमवार को जिले की संक्रामक रोग टीम भी जाएगी। गांव का भ्रमण कर बीमारों की केस हिस्ट्री तैयार करेगी और बीमारी के फैलाव को रोकने के लिए उपाय करेगी।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप