जागरण संवाददाता, फतेहपुर: शहर का बहु प्रतीक्षित सीवर लाइन प्रोजेक्ट बनकर तैयार हो गया है, जिले की तरफ से इसे लखनऊ के पीआरडी सेल में भेजा गया है। जिले में बनने वाले इस प्रोजेक्ट को हरी झंडी मिली तो 710 करोड़ की लागत से पूरे शहर में सीवर लाइन पड़ेगी और गंदे पानी का उपचार कर इसे खेती-किसानी के प्रयोग में लाया जाएगा।

सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट से न सिर्फ शहर में जल भराव की समस्या से निजात मिलेगी बल्कि जगह-जगह जलभराव होने के कारण उत्पन्न होने वाली बीमारियां भी खत्म होगी। प्लांट के लिए जल निगम विभाग ने नगर पालिका प्रशासन ने पांच हेक्टेयर भूमि की मांग की है। नगर पालिका ईओ प्रहलाद ¨सह ने शहर से पांच किलोमीटर बाहर बेरूई हार में जमीन मुहैय्या कराने की बात कही है। एक्सईएन जल निगम एसके वर्मा के नेतृत्व में टीम ने यहां का दौरा करके जमीन का मुआयना पूरा करते हुए। प्रोजेक्ट की ड्राइंग तैयार करते हुए शासन को भेजा है। उन्होंने बताया कि स्लोब की ²ष्टि से बेरूईहार की जमीन मुफीद है। इस प्रोजेक्ट के बनने से घर से निकलने वाला गंदा पानी अब नालियों और नालों में ही नहीं भरा रहेगा। न ही इस पानी को किसी तालाब या किसान की स्वामित्त वाली भूमि पर छोड़ा जाएगा। बल्कि अब शहर के गंदे पानी का उपचार जल निगम स्वयं करेगा। इसके लिए शहर के पांच किलोमीटर बाहर सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट लगाया जाएगा। जिसमें शहर भर के गंदे पानी को नालों की मदद से पहुंचाया जाएगा। प्लांट में पहुंचने वाली पानी का उपचारित करके पुन: प्रयोग लायक बनाकर इसे खेती-किसानी में प्रयोग के लिए नहरों में छोड़ा जाएगा। ¨बदकी बस स्टॉप व देवीगंज में बनेंगे उपकेन्द्र

-प्रोजेक्ट के अनुसार गंदे पानी का मुख्य भंडारण केन्द्र बेरूई हार में बनेगा। लेकिन इसके साथ ही शहर के अंदर भी दो उपकेन्द्र बनाए जाएगे। जो शहर के अंदर के पानी एकत्रित करके मुख्य भंडारण केन्द्र बेरूई हार में भेजेगे। जल निगम उप केन्द्र बनाने के लिए दो स्थानों का चयन किया है। जिसमें पहला स्थान ¨बदकी बस स्टॉप और दूसरा स्थान देवीगंज का इलाका है। यहां पर इंट्रीमिडियेटेड पंप सेट लगाकर पानी एकत्रित किया जाएगा।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप