सवा लाख किसानों नहीं कराई ई- केवाइसी, रुकेगी किस्त

जागरण संवाददाता, फतेहपुर : ई-केवाइसी न कराने वाले जिले के सवा लाख किसानों की किसान सम्मान निधि योजना की 12वीं किस्त खतरे में पड़ गई है। फर्जीवाड़ा रोकने के लिए शासन ने केवाइसी (नो योर कस्टमर) कराने की अंतिम तिथि 31 जुलाई तय किया था। सम्मान निधि का लाभ पा रहे सवा चार लाख किसानों ने 1.25 लाख किसान ऐसे हैं जिन्होंने केवाइसी नहीं कराई है। केवाइसी न कराने वाले किसानों को अगस्त माह में जारी होने वाली 12वीं किस्त नहीं मिल पाएगी। अन्नदाताओं को आर्थिक रूप से मजबूत करने के लिए केंद्र सरकार ने वर्ष 2018 से किसान सम्मान निधि योजना का शुभारंभ किया था। इस योजना में किसानों को साल में दो-दो हजार की तीन किस्तें दी जाती हैं। खाते में भेजे जाने वाली इस धनराशि का कुछ अपात्र किसान भी लाभ उठा रहे थे। भारत सरकार के निर्देश पर सत्यापन कराया गया तो छह हजार से अधिक आयकर देने वाले किसान पाए गए। सभी को नोटिस जारी धन वापसी के लिए चेतावनी जारी की गई है।

पंचायत घरों में चस्पा होगी सूची

केवाइसी न कराने वाले किसानों की सूची पंचायत स्तर पर तैयार की जा रही है। उपकृषि निदेशक राममिलन सिंह परिहार ने बताया कि कई बार मौका देने के बाद भी किसान केवाइसी नहीं करा रहे हैं। कहा, दो अगस्त को हर ग्राम पंचायत के पंचायत घर में सम्मान निधि पाने वाले ऐसे किसानों की सूची लगाई जाएगी जो केवाइसी नहीं कराए हुए है। कहा इसके लिए पंचायत स्तर पर विभाग के कर्मचारियों को लगा दिया गया है।

यह है केवाइसी

केवाइसी एक ऐसी प्रक्रिया है, जिसके माध्यम से बैंक व संस्थान किसी व्यक्ति की पहचान व और पते की पुष्टि करता है। ई-केवाइसी कराने के लिए सबसे पहले आपको पीएम किसान की अधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। वेबसाइट में आधार डिटेल दर्ज करने के बाद रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर ओटीपी (वन टाइम पासवर्ड) आएगा। उस ओटीपी को बाक्स में दर्ज करना होगा। इस प्रक्रिया को पूरी करने के साथ केवाइसी हो जाएगी।

ये भी जानें

योजना - किसान सम्मान निधि योजना

पंजीकृत किसान - 4.25 लाख

केवाईसी कराए किसान - 3.0 लाख

केवाईसी न कराने वाले - 1.25 लाख

अब तक भेजी किस्तें - 11

Edited By: Jagran

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट