फतेहपुर, जागरण संवाददाता : सिविल पुलिस की शिथिलता से गोवंश का कारोबार धड़ल्ले से चल रहा है। जंगलों में रात को मवेशी काटने के बाद कारोबारी ट्रकों में गौ मांस लादकर कानपुर समेत बिहार व पश्चिम बंगाल तक ले जा रहे हैं लेकिन पुलिस कसाइयों पर शिकंजा कसने के बजाए मिलीभगत के चलते जिंदा मवेशियों को बरामद कर लेती है लेकिन कार्रवाई के नाम पर चालक व मजदूरों के खिलाफ ही कार्रवाई करके मामले की इतिश्री कर रही है!

सदर कोतवाली पुलिस की शिथिलता से शहर क्षेत्र के महाजरी, बांबे लॉज के पीछे, कबाड़ी मार्केट के पीछे, सूपा, तेलियानी, सनगांव, बकंधा आदि जंगलों में भारी मात्रा में गोकशी हो रही है। उसके बाद तस्कर छोटे व बड़े वाहनों में गौ मांस भरकर गांव-गांव बेंचते हैं और पड़ोसी जिलों में भी आपूर्ति करते हैं। इसी तरह जहानाबाद, ललौली, हसवा, फरसी, किशनपुर, खागा, गाजीपुर, हथगाम बड़े पैमाने में गोकशी की जा रही है। बजरंग दल के प्रांत संयोजक बीरेंद्र पांडेय ने बताया कि पुलिस की सह पर ही गौकशी का कारोबार फल फूल रहा है। हुसेनगंज थाने के असनी बाजार में कटने वाले पशुओं की खरीद फरोख्त होती है और फिर नहरिया होते हुए उन मवेशियों को सूपा व सनगांव ले जाकर जंगलों में काटकर मांस की आपूर्ति की जा रही है जबकि असनी बाजार अवैध है। एसपी से मिलकर बाजार बंद कराने को ज्ञापन भी दिया गया लेकिन अभी तक कोई उचित कार्रवाई नहीं की गई। कहा कि प्रतिमाह करीब 60 ट्रक मवेशी भरकर कटने के लिए बिहार व पश्चिम बंगाल लेकर जाया जा रहा है। पुलिस मवेशियों से भरे ट्रकों को पकड़ती भी है तो हकीकत यह रहती है कि उनके हाथ से कसाई भाग जाते हैं और कार्रवाई के नाम पर चालक व मजदूरों पर ही गाज गिराई जाती है। तस्कर गोवंश के पशुओं को घाटमपुर से जहानाबाद, बकेवर होकर बिहार, कलकत्ता ले जाते हैं। ललौली से भी कलकत्ता पशु ले जाए जा रहे हैं।

कसाइयों पर हो रही सख्त कार्रवाई

- अपर पुलिस अधीक्षक अरविंद मिश्र का कहना था कि सभी थाना प्रभारियों को वाहनों की चेकिंग व गौकशी रोकने की निर्देश दिए गए हैं और पुलिस जिंदा मवेशियों समेत कसाइयों को पकड़कर सख्त कार्रवाई भी कर रही है। क्षेत्राधिकारी नगर रवींद्र वर्मा व शहर कोतवाल केके यादव का कहना था कि तमाम जिंदा मवेशियों को पकड़कर ग्रामीणों के सुपुर्द किया गया है और बरामद कटे मांस को दफनवा कर कार्रवाई की जा रही है।

--------------------------

कहां कहां हैं ठिकाने

- कसौड़ा, बांबे लाज के पीछे, महाजरी, कबाड़ी मार्केट पीरनपुर के पीछे, सनगांव, सूपा, बकंधा, तेलियानी, जहानाबाद, ललौली, हसवा, फरसी, किशनपुर, खागा, गाजीपुर, हथगाम, असनी आदि।