संवाद सूत्र, मोहम्मदाबाद : श्रीराम कथा में आचार्य मनोज अवस्थी ने कहा कि हम सभी भारत माता की गोद में जन्मे हैं। चाहे बहे खून की गंगा, झुकने न देंगे देश का तिरंगा। उन्होंने कहा कि हम रहें न रहें देश रहना चाहिए।

क्षेत्र के गांव सलेमपुर स्थित गमा देवी मंदिर परिसर में आयोजित श्रीरामकथा में आचार्य ने स्वतंत्रता के अमृत महोत्सव में मां भारती के चित्र पर पूजन अर्चन कराया। वंदे मातरम व भारत माता के जयघोष से पंडाल गूंज उठा। आचार्य ने कहा कि आप सभी मां भारती की सेवा में लगे रहें और मां भारती का गुणगान करते रहें। अहंकार का त्याग करो और जाति धर्म का भेदभाव छोड़कर सबको साथ लेकर चलो। सबको साथ लेकर चलने से समाज का निर्माण होगा। आचार्य ने चित्रकूट में भरत मिलाप की कथा सुनाई, जिसे सुनकर श्रोता भाव विभोर हो गए। उन्होंने कहा कि मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम ने वानर, कोल, भील की सेना एकत्र कर रावण से युद्ध किया। उन्होंने किसी से भेदभाव नहीं किया। इससे पूर्व रविवार सुबह हाथों में तिरंगा व केसरिया ध्वज लेकर श्रीराम व भारत माता के जयघोष के साथ प्रभातफेरी निकाली गई।

Edited By: Jagran