जागरण टीम, फर्रुखाबाद : क्रासिग गेट बंद कर रेलवे द्वारा बनवाए गए अंडरपास नागरिकों के लिए बवालेजान बन गए हैं। जिले के सभी अंडरपास में जबरदस्त जलभराव हो गया है। इस कारण लोगों को कई किमी चक्कर काटकर जाना पड़ रहा है। गुरुवार को कई अंडरपास में जलभराव के बीच वाहन फंस गए। उन्हें निकालने में लोगों को जेब ढीली करनी पड़ी।

मेरापुर क्षेत्र स्थित पखना रेलवे स्टेशन के पश्चिमी ओर बने अंडरपास में करीब पांच फीट पानी भरा है। जिसमें ईंटों से भरी ट्रैक्टर ट्राली फंस गई। किराए पर बुलडोजर मंगवाकर जैसे-तैसे उसे बाहर निकलवाया गया। गांव कुबेरपुर के पास बने अंडरपास में जबरदस्त जलभराव है। जिससे गांव अर्जुनपुर, कुबेरपुर, बिहार सहित कई गांवों के लोगों को कई किमी चक्कर काटकर वाहन ले जाने पड़ रहे हैं। गांव मटीला नगला निवासी रामप्रकाश उर्फ बबलू यादव ने बताया कि उन्हें बेटी की परीक्षा दिलाने जाना था। कई किलोमीटर घूमकर जाना पड़ा। सर्वाधिक परेशानी मोहम्मदाबाद-संकिसा मार्ग बंद होने से हो रही है। गांव बहादुर नगला स्थित अंडरपास में जबरदस्त पानी भरा है। कुछ चालकों ने दोपहर को निकलने का प्रयास किया तो साइलेंसर में पानी जाने से कारें बंद हो गईं। उन्हें ट्रैक्टर से खिचवाना पड़ा। फंसे वाहनों को निकालने के लिए ट्रैक्टर मालिक 500 से एक हजार रुपये तक ले रहे हैं। मोहम्मदाबाद क्षेत्र की नीमकरोरी रेलवे स्टेशन के निकट बने अंडरपास में जलभराव है। इस कारण गांव बराकेशव, जाजपुर गोवा आदि गांवों में आने-जाने वालों को कई किमी घूमकर निकलना पड़ रहा है। कुछ बाइक सवारों ने रेलवे लाइन के ऊपर से बाइकें निकालीं। दोपहर बाद पंपिग सेट लगाकर पानी निकालने का काम शुरू किया गया। रेलवे ने कुछ अंडरपास में पानी रोकने के लिए टीनशेड लगाए थे, इसके बावजूद पानी भर रहा है।

Edited By: Jagran