जागरण संवाददाता, फर्रुखाबाद : पठान सूट पहने अफगानी सेना के कुछ जवानों को बुधवार शाम सेठ गली में विश्व हिदू परिषद (विहिप) जिलाध्यक्ष मुकेश बाथम ने संदिग्ध समझकर रोक लिया। उन्होंने पासपोर्ट दिखाया तो जिलाध्यक्ष ने अपनी जेब में रख लिए। बाद में पुलिस व सैन्य अधिकारी के आने पर उन्हें जाने दिया गया।

अफगानिस्तान सेना के जवान सिखलाई रेजीमेंट में प्रशिक्षण कार्यक्रम में आए हैं। वह वर्तमान में कैंट क्षेत्र में रह रहे हैं। बुधवार को छह जवान शहर के नेहरू रोड स्थित सेठ गली में खरीदारी करने गए थे। विहिप जिलाध्यक्ष कार्यकर्ताओं संग अपने कार्यालय में थे। पठान सूट पहने इन लोगों को संदिग्ध जानकर उन्होंने सवाल-जवाब कर बैठा लिया। सैनिकों ने अपने पासपोर्ट दिखाए, लेकिन विहिप नेता ने कहा कि वह पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों के आने पर ही उन्हें जाने देंगे। कुछ देर बाद कोतवाली पुलिस व एक सैन्य अधिकारी आए। इसके बाद सैनिकों को पासपोर्ट लौटाकर जाने दिया गया। विहिप जिलाध्यक्ष ने बताया कि पासपोर्ट देखकर वह समझ नहीं पाए कि यह सैनिक हैं। पुलिस व सैन्य अधिकारी के आने पर जानकारी हुई। सीओ सिटी मन्नीलाल गौड़ ने बताया कि मामले की जानकारी नहीं है, पता कराते हैं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस