जागरण संवाददाता, फर्रुखाबाद : उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ के पदाधिकारियों ने सोमवार को प्रभारी जिला विद्यालय निरीक्षक से मिलकर समस्याओं के समाधान की मांग की। वार्ता के दौरान शिक्षक नेताओं ने रामानंद बालक इंटर कालेज के शिक्षक का वेतन मिलीभगत कर रोके जाने समेत कई आरोप प्रभारी डीआइओएस पर लगाए। वेतन बहाल करने की मांग पर डीआइओएस ने दो टूक कहा कि वह दबाव में कोई काम नहीं करेंगे। सभी काम नियमानुसार होंगे। इसके बाद शिक्षक नेताओं ने नौ सूत्रीय ज्ञापन सौंपा।

जिलाध्यक्ष लालाराम दुबे के नेतृत्व में शिक्षक नेता जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय पहुंचे और प्रभारी डीआइओएस एपी सिंह से वार्ता की। शिक्षक नेताओं ने आरोप लगाया कि रामानंद बालक इंटर कालेज के शिक्षक पुनीत कुमार दुबे का वेतन प्रबंधक की संस्तुति पर रोक दिया गया, जो नियम विरुद्ध है। इसके साथ ही उन्होंने अन्य आरोप लगाते हुए वेतन बहाल करने की मांग की, जिस पर प्रभारी डीआइओएस ने कहा कि वह लोग बेवजह दबाव न बनाएं। इस दौरान क्रिश्चियन इंटर कालेज में बीते दिनों किए गए औचक निरीक्षण का भी मुद्दा उठाया गया। शिक्षक नेताओं ने आरोप लगाया कि साजिशन कालेज का सुबह 7.30 बजे निरीक्षण किया गया, जो गलत है। जिलाध्यक्ष की मांग पर डीआइओएस ने निर्देश दिए कि मई का वेतन बिल डीआइओएस कार्यालय से ही निकाला जाए। जिलाध्यक्ष की मांग पर जिन शिक्षकों का अप्रैल का वेतन रुका था, उनके वेतन बिल ट्रेजरी में लगवाए जाने के डीआइओएस ने निर्देश दिए। इस अवसर पर जिला मंत्री नरेंद्र पाल सिंह सोलंकी, प्रांतीय कार्यकारिणी सदस्य अनिल सिंह, उपाध्यक्ष संतोष दुबे, सत्येंद्र सिंह, सुधाकर चतुर्वेदी, निशीत सक्सेना व संजीव चौहान आदि मौजूद रहे।

Edited By: Jagran