संवाद सहयोगी, अमृतपुर : राजेपुर ब्लाक प्रमुख पद के लिए भाजपा प्रत्याशी डा. पल्लव सिंह सोमवंशी व सपा समर्थित प्रत्याशी सुनीता सिंह ने दो दो नामांकन पत्र जमा किए। आरओ ने सपा प्रत्याशी का नामांकन पत्र त्रुटियों के कारण निरस्त कर दिया और प्रत्याशी को बाहर निकाल दिया। जिस पर सपा प्रत्याशी की पुलिस से नोकझोंक हो गई। सपा का पर्चा निरस्त होने पर भाजपा कार्यकर्ताओं ने नारेबाजी की।

भाजपा प्रत्याशी डा. पल्लव सिंह सोमवंशी अपने पिता पूर्व जिलाध्यक्ष सत्यपाल सिंह, पूर्व विधायक कुलदीप गंगवार, विधायक सुशील शाक्य व सरिता शाक्य के साथ वाहनों के काफिले से पहुंचे। पल्लव ने नामांकन पत्र के दो सेट जमा किए। डा. पल्लव सोमवंशी मुहूर्त के इंतजार में करीब दो घंटे ब्लाक परिसर में बैठे रहे। तभी सपा प्रत्याशी सुनीता सिंह अपने पति संजय सोमवंशी, अनुमोदक व प्रस्तावकों के साथ नामांकन पत्र जमा करने पहुंची। ब्लाक गेट पर महिला पुलिस तलाशी के लिए सुनीता सिंह अलग लेकर जाने लगी, तो सुनीता सिंह ने कहा कि तलाशी तो हो चुकी है। राजेपुर थाना प्रभारी देवेश कुमार संजय सोमवंशी को बाहर निकाल लाए। उन्होंने कहा कि संजय सोमवंशी प्रस्तावक नहीं हैं। तभी आरओ ने संजय सोमवंशी को अंदर बुलाया। तीन बजे के बाद आरओ जीवेश कुमार मौर्य ने सपा प्रत्याशी को बुलाया। थोड़ी देर बाद आरओ ने कहा कि पति संजय सोमवंशी को बुलाओ, पर्चा में कुछ कमी है। संजय सोमवंशी को बुलाया गया। संजय सोमवंशी को ब्लाक के गेट पर पुलिस ने अंदर जाने से रोक दिया। तभी आरओ ने पर्चा निरस्त हो जाने की कहकर सुनीता सिंह को जाने को कहा। सुनीता सिंह ने नामांकन पत्र निरस्त होने का कारण पूछा तो उन्हें बाहर निकाल दिया गया। संजय सोमवंशी की पुलिस से नोकझोंक भी हुई। संजय सोमवंशी ने प्रेक्षक से मिलकर शिकायत की है। आरओ जीवेश कुमार मौर्य ने बताया कि सुनीता सिंह के नामांकन पत्रों में अनुमोदक जितेंद्र व वीना के हस्ताक्षर नहीं हैं और जमानत धनराशि पांच हजार की जगह दो हजार पांच सौ रुपये जमा की गई है। संजय सोमवंशी ने बताया कि नामांकन पत्रों में अनुमोदक के हस्ताक्षर किए गए हैं और महिला की जमानत धनराशि आधी होने से दो हजार पांच सौ रुपये जमा किए गए। भाजपा नेताओं के इशारे पर पर्चा निरस्त किया गया है, प्रेक्षक से शिकायत की गई है।

Edited By: Jagran