जागरण संवाददाता, फर्रुखाबाद: रुपये न देने पर बेटे ने मां से पहले मारपीट की। बाद में कुल्हाड़ी से काटकर हत्या कर दी थी। मामले को अति गंभीर मानते हुए साक्ष्यों के आधार पर अपर जिला सत्र न्यायाधीश ने मां की हत्या करने का दोषी मानते हुए बेटे को उम्र कैद की सजा सुनाई। साथ ही दोषी पर 20 हजार रुपये जुर्माना भी लगाया। जुर्माना अदा न करने पर एक वर्ष अतिरिक्त कैद का भी उन्होंने आदेश दिया।

शमसाबाद थाना क्षेत्र के गांव बरई निवासी रामनिवास ने एक अगस्त 2013 को थाने में मुकदमा दर्ज कराया था। तहरीर में कहा गया था कि उसकी मां विद्यावती भाई दयाशरण के साथ रहती थीं। दयाशरण मां के साथ प्रतिदिन गालीगलौज व मारपीट करता था। इससे परेशान होकर वह उसी मकान में रह रहे भाई वीरेंद्र व श्यामबाबू के साथ रहने लगीं। आठ अगस्त को दयाशरण ने मां विद्यावती से रुपये मांगे। मना करने पर मारपीट करने लगा। वह बचने के लिए भागीं तो आरोपी ने कुल्हाड़ी से हमलाकर हत्या कर दी। मुकदमे के विवेचक तत्कालीन थानाध्यक्ष डीके ¨सह ने सात सितंबर 2013 को दयाशरण के खिलाफ न्यायालय में चार्जशीट दाखिल की। इस मामले में सुनवाई के दौरान एडीजीसी प्रवीन ¨सह व बचाव पक्ष की दलीलें सुनने के बाद अपर जिला सत्र रवींद्र कुमार श्रीवास्तव ने बुधवार को फैसला सुनाया।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप