जागरण संवाददाता, फर्रुखाबाद : गंध और स्वाद न लगने पर संविदा रोडवेज कर्मी ने मंगलवार को लोहिया अस्पताल में ट्रूनॉट मशीन से जांच कराई। जांच में वह कोरोना पॉजिटिव पाया गया। हालांकि रिपोर्ट की पुष्टि को उसका सैंपल सैफई मेडिकल कालेज भेजा गया है। संदिग्ध मरीज इमरजेंसी में एक घंटे तक रहा। जिस पर इमरजेंसी 24 घंटे के लिए बंद कर दी गई है।

कमालगंज थाना क्षेत्र के कीरतपुर निवासी युवक फतेहगढ़ स्थित रोडवेज वर्कशॉप में संविदा पर मकैनिक है। गंध और स्वाद न लगने पर वह छोटे भाई के साथ मंगलवार दोपहर लोहिया अस्पताल पहुंचा। यहां पर उसने ओपीडी में ईएनटी सर्जन डॉ. शिखर सक्सेना को दिखाया। इस दौरान चिकित्सक एक मरीज को देखने इमरजेंसी कक्ष में आए गए। उनके पीछे से संदिग्ध युवक भी आ गया। वह यहां पर एक घंटे तक रुका। चिकित्सक ने उसे जांच कराने को दूसरी मंजिल पर भेजा। वहां सैंपल लेकर ट्रूनॉट मशीन से जांच की गई। सैंपल निकलवाकर युवक भाई के साथ घर चला गया।

इमरजेंसी कक्ष में ड्यूटी पर तैनात चिकित्सक अभिषेक चतुर्वेदी ने बताया कि संदिग्ध युवक के इमरजेंसी में होने से सीएमएस के निर्देश पर इमरजेंसी 24 घंटे के लिए बंद कर दी गई है। भर्ती आठ मरीजों को दूसरी मंजिल पर बने वार्ड में शिफ्ट करा दिया गया हैं। आने वाले मरीजों को सिविल अस्पताल लिजीगंज भेजे जा रहे हैं। सीएमओ के आदेश पर गंभीर मरीजों को संबंधित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र से सैफई मेडिकल कॉलेज रेफर किए जाएंगे। वार्ड में भर्ती मरीज को बाहर निकाला

मेरापुर थाना क्षेत्र के ग्राम गुठिना निवासी संजीव कुमार का मारपीट में गला कट गया था। उन्हें सोमवार रात लोहिया अस्पताल में भर्ती करया गया। मंगलवार दोपहर संजीव को अस्पताल से बाहर कर दिया गया। जिसके बाद वह इमरजेंसी के बाहर ही लेट गया। इस संबंध में चिकित्सक ने बताया कि मरीज को दूसरी मंजिल पर शिफ्ट कराया गया था, लेकिन वह स्वयं बाहर निकल गया।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस