जागरण संवाददाता, फर्रुखाबाद : बारहवफात के जुलूस को लेकर कोतवाली प्रभारी ने मुस्लिम समाज के लोगों के साथ बैठक की। इस दौरान उन्होंने कहा कि कोविड के चलते कहीं भी जुलूस की अनुमति नहीं है। इसके बाद समाज के लोगों ने रविवार को बसपा नेता के घर बैठक की, जिसमें तय हुआ कि 19 अक्टूबर को जुलूस नहीं निकलेगा, जलसे का आयोजन किया जाएगा।

मुहल्ला खटकपुरा इज्जत खां निवासी बसपा नेता अफरोज आलम मल्लू के आवास पर दोपहर को बैठक हुई। जिसमें कादरी मुख्तार आलम, मोहम्मद हसीन, हाजी भोले, हाफिज रियाज, खुर्शीद अहमद खां, जुबैर अंसारी आदि मौजूद रहे। तय किया कि बारहवफात पर 19 अक्टूबर की शाम घुमना स्थित अंजुमन स्कूल में जलसे का आयोजन होगा, जुलूस नहीं निकाला जाएगा। इसके बाद मुस्लिम समाज के लोग कोतवाली प्रभारी से मिलने पहुंचे और बैठक में लिए गए निर्णय की जानकारी दी। कोतवाली प्रभारी विनोद कुमार शुक्ला ने बताया कि प्रार्थनापत्र में बताया है कि अंजुमन स्कूल में रात आठ से 12 बजे तक जलसा ईद मीलादुन्नवी आयोजित होगा। बैठक में मौजूद मुख्तार अहमद टेनी ने बताया कि मौलाना शमशाद अहमद चतुर्वेदी जलसे को खिताब करेंगे।

मऊदरवाजा थाने में भी शांति कमेटी की बैठक संपन्न हुई। जिसमें तय हुआ कि कोविड प्रोटोकाल के तहत बारहवफात मनाई जाएगी। किसी जुलूस अथवा बड़े जलसे की अनुमति नहीं होगी। थाना प्रभारी आमोद कुमार सिंह ने बताया कि शांति कमेटी के सदस्यों को नियमों की जानकारी दी गई, जिसमें सभी ने सहमति व्यक्त की।

Edited By: Jagran