संवाद सूत्र, मोहम्मदाबाद : मंडियों में डिमांड न होने से आलू का भाव लगातार गिरता जा रहा है। किसानों की लागत भी नहीं निकल पा रही है। जिससे किसान परेशान हैं।

आलू का भाव कोल्ड स्टोरेज में लगातार गिर रहा है। खेतों में भी आलू सस्ता बिक रहा है, जिससे लागत नहीं निकल पा रही है। किसान ने इस उम्मीद में आलू का कोल्ड स्टोरेज में भंडारण किया था कि अच्छे पैसे मिल जाएंगे। सभी कोल्ड स्टोरेज भर जाने के बाद 20 मई तक खेतों में ढेरियों का आलू बिकता रहा। कोल्ड स्टोरेज से आलू की निकासी 500 रुपये पैकेट से हुई। भाव गिरने से आलू 350 रुपये पैकेट पर आ गया। कोल्ड स्टोरेज का भाड़ा, बारदाना, पल्लेदारी व ट्रैक्टर भाड़ा मिलाकर लगभग 200 रुपये प्रति पैकेट खर्च आता है। किसान को मात्र 150 रुपये प्रति पैकेट के दाम मिल रहे हैं जिससे बीज का भी पैसा नहीं निकल रहा है।

हरकमपुर निवासी सुरेश चंदेल ने बताया कि उनका 400 पैकेट आलू कोल्ड स्टोरेज में रखा है। वह कई दिन से बेचने जा रहे हैं, लेकिन व्यापारी नहीं हैं। नीबकरोरी के धीरज मिश्रा ने बताया कि इस भाव में आलू बेचने पर आठ से नौ हजार रुपये बीघा के दाम आ रहे हैं, जबकि आलू की लागत 16 हजार बीघा से अधिक है। एसआर कोल्ड स्टोरेज के मालिक मोहन अग्रवाल ने बताया कि 10 से 12 फीसद आलू की निकासी हुई है। मंडियों में डिमांड नहीं है। किसान जल्दी आलू बेच लें, तो कुछ पैसा मिल सकता है।

Edited By: Jagran