जागरण संवाददाता, फर्रुखाबाद : शासन की ओर से अब सप्ताह में दो दिन लॉकडाउन लागू किए जाने की योजना को लेकर व्यापारियों में भ्रम की स्थिति पैदा हो गई है। जनपद स्तर पर जिला प्रशासन ने एक दिन दाईं ओर तो दूसरे दिन बाईं ओर की दुकानें खोलने का नियम लागू कर रखा है। इसके चलते अब एक ओर के दुकानदारों को तीन दिन व दूसरी ओर के व्यापारियों को दुकानें खोलने के लिए मात्र दो दिन ही मिल रहे हैं। इससे दुकानदार बाजारबंदी के 'लेफ्ट-राइट' में उलझ गए हैं। इसके विरोध में सोमवार को फतेहगढ़ के दुकानदारों ने कलेक्ट्रेट में प्रदर्शन किया।

बाजार बंदी के लिए प्रदेश सरकार और जिला प्रशासन के नियमों के घालमेल से बाजार में भ्रम की स्थिति बन गई है। दोनों प्रकार के नियम एक साथ लागू करने पर एक ओर के दुकानदारों को सोमवार, बुधवार व शुक्रवार तो दूसरी ओर के दुकानदारों को केवल मंगलवार व गुरुवार के ही दिन दुकान खोलने को मिल रहे हैं। इसके चलते आमने-समाने के दुकानदारों के बीच ही विवाद की स्थिति बन गई है। दुकानदारों का कहना है कि जब सरकार ने ही पांच दिन बाजार खोलने की अनुमति दे दी है तो, जनपद स्तर पर लेफ्ट-राइट के नियम को बंद किया जाए, या कम से कम एक दिन दोनों ओर की दुकानों को खोलने का अवसर दिया जाए। इसी मुद्दे को लेकर फतेहगढ़ के व्यापारियों ने सोमवार को कलेक्ट्रेट पहुंच कर प्रदर्शन किया।

नगर मजिस्ट्रेट अशोक मौर्य ने दुकानदारों को समझाने का प्रयास किया, लेकिन मामला सुलझा नहीं। नगर मजिस्ट्रेट ने शासन और प्रशासन के नियमों का सख्ती से पालन करने की मंशा जताते हुए, उल्लंघन करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की चेतावनी दी। इस दौरान दोनों पक्षों के दुकानदारों के बीच भी नोकझोंक की नौबत आ गई। हालांकि व्यापार मंडल नेता अल्लाहदीन ने बताया कि मामले जिलाधिकारी से वार्ता हुई है, उन्होंने मंगलवार को वार्ता का समय दिया है। वार्ता के बाद स्थिति साफ हो जाएगी।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021