संवाद सहयोगी, कायमगंज : लोगों ने ग्राम समाज में खलिहान में दर्ज सार्वजनिक जमीन पर कब्जे के लिए ऐसा जताया कि जल निगम का सरकारी आफिस बन रहा है। ऐसा भ्रम फैलाकर रातोंरात बाउंड्री बनाकर कब्जा कर लिया। मामला खुल जाने पर प्रधान, कानूनगो व लेखपाल ने कब्जा हटवाया।

मामला कायमगंज कोतवाली क्षेत्र की कुआंखेड़ा चौकी क्षेत्र के गांव पट्टिया (ग्राम पंचायत कुंआखेड़ा वजीर आलम) का है। जहां खलिहान की खाली पड़ी जमीन पर विश्राम, श्रीकृष्ण, बृजपाल, जयपाल सहित कई ग्रामीण काफी समय से घूरा डालते रहे। वहीं के एक ग्रामीण जो गांव के सरकारी निर्माण संस्था में मेठ था, उसने यह भ्रम फैलाया कि उक्त जगह पर जल निगम का सरकारी निर्माण होगा। उसने विश्राम आदि से वह जगह खाली करा ली व गुरुवार रातों रात बाउंड्री बनवा दी। सरकारी काम के रातों में होने पर ग्रामीणों को शक हुआ। उन्होंने प्रधान हरिदत्त सिंह शाक्य को जानकारी दी। प्रधान ने जल निगम के अधिकारियों से पूछा तो उन्होंने अपना निर्माण होने से मना किया। इस पर प्रधान के कहने पर विश्राम आदि ने कुआंखेड़ा चौकी में शिकायत की। पुलिस ने आरोपित पक्ष से एक व शिकायतकर्ता पक्ष से दो लोगों का शांतिभंग में चालान कर दिया। शिकायतकर्ता विश्राम व उनके पक्ष के अन्य लोगों ने जिलाधिकारी व उपजिलाधिकारी को प्रार्थना देकर छत्रपाल, राजेंद्र व संजीव पर कब्जा का आरोप लगाते हुए यह भी शिकायत की कि आरोपितों की मिलीभगत से चौकी पुलिस ने उनसे बुरी तरह मारपीट भी की। इस पर प्रशासन की ओर से हुई त्वरित कार्रवाई में कानूनगो सोबरन सिंह, बंदोबस्त के नूर हसन, लेखपाल देवेंद्र सिंह आदि पहुंचे। ग्राम प्रधान हरिदत्त सिंह शाक्य की मौजूदगी में कब्जा हटवाया। नींव में भरी रह गई ईंटों को हटाने के लिए अवैध कब्जेदार को आदेशित किया।

Edited By: Jagran