जागरण संवाददाता, फर्रुखाबाद : चचेरे भाई को रेलवे स्टेशन पर छोड़कर शनिवार को बाइक से घर जा रहे किशोर को बरेली हाईवे पर तेज रफ्तार डीसीएम ने किशोर को कुचल दिया। उसे लोहिया अस्पताल ले जाया गया, वहां से रेफर किए जाने पर रास्ते में उसकी मौत हो गई।

मऊदरवाजा थाना क्षेत्र के गांव सींगनपुर निवासी रमेश खां का 16 वर्षीय पुत्र शाहरुख अपने ताऊ के पुत्र नईम को फर्रुखाबाद रेलवे स्टेशन पर छोड़कर घर जा रहा था। बरेली हाईवे पर बघार नाला के पास ढिलावल मोड़ पर इटावा की ओर से आ रही तेज रफ्तार डीसीएम ने उसकी बाइक में टक्कर मार दी, जिससे शाहरुख बाइक समेत गिर गया और डीसीएम उसका सिर कुचलते हुए निकल गई। स्थानीय लोगों ने डीसीएम को घेर लिया और घायल को लोहिया अस्पताल में भर्ती कराया गया। वहां हालत नाजुक देख हायर सेंटर के लिए रेफर किया गया। स्वजन उसे लेकर सिटी अस्पताल पहुंचे, वहां भी उसे कानपुर ले जाने की सलाह दी गई। इसके बाद घरवाले उसे कानपुर ले जा रहे थे कि रास्ते में मौत हो गई।

घटना के बाद स्वजन शाहरुख का शव घटनास्थल पर ले आए और हाईवे पर रखकर जाम लगा दिया। इस दौरान ग्रामीणों भारी भीड़ जमा हो गई। लोगों ने दबाव बनाकर ट्रकों को हाइवे पर आड़ा-तिरछा खड़ा करवा दिया। स्वजन मुआवजा की मांग कर रहे थे। सीओ अमृतपुर राजवीर सिंह मौके पर पहुंचे और स्वजनों को शांत किया। शव किनारे करवाकर जाम खुलवाना शुरू किया। कुछ वाहनों को पास करा दिया। टेंपो लाकर जैसे ही शव उठाने का प्रयास किया वैसे ही फिर हंगामा शुरू हो गया और दोबारा हाईवे जाम कर दिया गया। ढाई घंटे बाद जैसे-तैसे पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम हाउस भेजकर जाम खुलवाया। पुलिस ने डीसीएम को कब्जे में लेकर चालक को हिरासत में ले लिया। ताऊ के पुत्र रियाज अहमद खां ने डीसीएम चालक के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई। शाहरुख के पिता रमेश खां मजदूरी करते हैं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस