जागरण संवाददाता, फर्रुखाबाद : आगरा मंडल में तैनात वाणिज्य निदेशक एसके गुप्ता ने बुधवार शाम बेवर रोड स्थित बिजली विभाग की वर्कशाप पहुंचकर निरीक्षण किया। उन्हें काफी कमियां मिलीं। वर्ष 2018 से निरीक्षण न करने पर वर्कशाप के अधीक्षण अभियंता, एसडीओ व जेई को जमकर फटकार लगाई। इन लोगों को कार्रवाई की चेतावनी दी गई।

वाणिज्य निदेशक ने वर्कशाप में विद्युत वितरण निगम के अधीक्षण अभियंता एसके श्रीवास्तव, कायमगंज के अधिशासी अभियंता राहुल बाबू कटियार, ग्रामीण के अधिशासी अभियंता सुरेंद्र कुमार सिंह व एसडीओ जितेंद्र के साथ निरीक्षण किया। वर्कशाप में बन रहे ट्रांसफार्मरों में लगने वाले सामान की गुणवत्ता परखी। कमियां मिलने पर एसडीओ व जेई को फटकार लगाई। कार्यालय में जांच की तो कई अभिलेख अपूर्ण मिले। विजिट रजिस्टर में 2018 से कोई निरीक्षण अंकित नहीं था। इस पर उन्होंने आगरा में तैनात अधीक्षण अभियंता वर्कशाप से फोन पर कहा कि तीन साल से कोई निरीक्षण नहीं किया गया। यहां तैनात अधिकारी व कर्मचारी मनमानी कर रहे हैं। इसके बाद निदेशक भोलेपुर स्थित खंड कार्यालय पहुंचे। यहां उन्होंने सभी अधिशासी अभियंताओं के अलावा एसडीओ व अवर अभियंताओं के साथ लाइनलास, राजस्व वसूली, लाइन निर्माण व फाल्ट आदि की समीक्षा की।

जेई व संस्था पर होगी कार्रवाई

वाणिज्य निदेशक स्थानीय बिजली अधिकारियों को सूचना दिए बिना ही एक शिकायत पर कमालगंज के गांव कोहरापुर पहुंच गए। गांव में कई वर्ष से आपूर्ति नहीं आ रही है। इसके बावजूद भी कार्यदायी संस्था के बिल बनाकर ग्रामीण को दे दिए। 12 ग्रामीणों ने निदेशक को बिल भी दिखाए। निदेशक ने बताया कि कार्यदायी संस्था ने फर्जी बना दिए हैं। क्षेत्रीय अवर अभियंता भी कभी गांव में नहीं गए। क्षेत्रीय जेई व संस्था के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने बताया कि ग्रामीण क्षेत्रों में ट्रांसफार्मर बदलने में अवैध वसूली की शिकायतें मिलती हैं। ग्रामीण ट्रांसफार्मर फुंकने पर 1912 पर शिकायत दर्ज कराएं, जिससे 24 घंटे में ट्रांसफार्मर बदला जा सके।

Edited By: Jagran