जागरण संवाददाता, फर्रुखाबाद : नौचंदी जुमेरात के अवसर पर आज शहर की विभिन्न दरगाहों पर अकीदतमंदों की भीड़ उमड़ी। लोगों ने मजारों पर गुलपोशी कर मन्नतें मांगीं। लोको दरगाह पर दूर-दराज से आए मुरीदीन ने चादर चढ़ाई।

शहर के लोको रोड स्थित हिदू-मुस्लिम एकता की प्रतीक दरगाह हजरत सैयद मखदूम शहाबुद्दीन औलिया आज सात रबिउल अव्वल के दिन नौचंदी जुमेरात के मौके पर सुबह से ही दरगाह शरीफ पर कुरानख्वानी का दौर शुरू हो गया। मुरीदीन ने गुलपोशी और चादर पोशी कर मन्नतें मांगीं। दूरदराज से आए अकीदतमंदों ने दरगाह शरीफ पर पहुंचकर हाजरी दी। दरगाह के सज्जादानशीन हाजी मोहम्मद शरीफखां उर्फ मोहब्बत शाह की सरपरस्ती में कार्यक्रम आयोजित किया गया। इस मौके पर मौलाना आरिफ मोहम्मद, कासिम साबरी, रफत हुसैन, आकिब खां आदि लोग मौजूद रहे। इसके अलावा शहर की अन्य प्रमुख दरगाहों पर भी नौचंदी जुमेरात धूमधाम से मनाई गई। फतेहगढ़ स्थित दरगाह हजरत सत्तारिया अशरफिया, दरगाह हुसैनिया मुजीबिया, दरगाह हजरत छोटे बड़े साहब, दरगाह हजरत सैयद सुल्तानबख्श पर भी नौचंदी जुमेरात पर फातिहा का आयोजन किया गया।

महफिले समां के साथ उर्स का समापन

शहर के मोहल्ला खैराती खां स्थित दरगाह हजरत अल्ली शाह का दो दिवसीय सालाना उर्स पूरी शान शौकत के साथ संपन्न हुआ। कुल शरीफ और फातिहा खानी के अलावा महफिले समां का आयोजन किया गया। इसमें सूफियाना महफिले समां हुई। जिसमें मुकामी कव्वाल कमालुद्दीन वारसी और उनके साथियों ने कलाम पेश किए। कुल शरीफ के मौके पर काफी संख्या में अकीदतमंदों ने दरगाह पर पहुंचकर हाजिरी दी और तबर्रुक हासिल किया। इस मौके पर हाफिज मुमताज वारसी, हाफिज कारी तनवीर रजा आदि मौजूद रहे।

Edited By: Jagran