जागरण संवाददाता, फर्रुखाबाद : फर्जी शिक्षकों को बर्खास्त न किए जाने व 16 को नोटिस न दिए जाने की खबर को संज्ञान लेकर जिला बेसिक शिक्षाधिकारी ने 15 फर्जी शिक्षकों को बर्खास्त कर दिया। वहीं 16 में 15 फर्जी शिक्षकों को नोटिस जारी कर एक नवंबर को जिला बेसिक शिक्षाधिकारी कार्यालय में जवाब देने के निर्देश दिए हैं।

वर्ष 2005 में डॉ. भीमराव आबेडकर विश्वविद्यालय आगरा की बीएड की फर्जी मार्कशीट लगाकर शिक्षक बनने के मामले में शिकायत के बाद हुई जांच में जिले में भी 51 शिक्षक फर्जी पाए गए थे, जिनमें 16 शिक्षक अंतरजनपदीय स्थानांतरण के भी शामिल थे। 15 शिक्षकों के नोटिस का जवाब देने के बावजूद बर्खास्त न करने व लिपिक के अवकाश के होने के चलते 16 को नोटिस जारी न किए जाने की खबर को 22 अक्टूबर के अंक में 'लिपिक अवकाश पर, ठंडे बस्ते में 31 फर्जी शिक्षकों की बर्खास्तगी' शीर्षक से प्रकाशित की थी। खबर को संज्ञान में लेकर बीएसए ने नोटिस का जवाब देने वाले 15 शिक्षकों को बर्खास्त कर दिया है। वहीं अवकाश से लौटे लिपिक पंकज कुमार ने 16 में से 15 फर्जी शिक्षकों को नोटिस भेजकर एक नवंबर को बीएसए दफ्तर में स्पष्टीकरण देने को कहा है। लिपिक ने बताया कि अभिलेखों में एक फर्जी शिक्षक के नाम में त्रुटि होने के चलते उस फाइल की ठीक से जांच करवाई जा रही है। बीएसए ने बताया कि 15 शिक्षकों को बर्खास्त कर 15 को नोटिस भिजवाए गए हैं। यह शिक्षक हुए बर्खास्त

शिवप्रताप सिंह, पीयूष कुमार, धर्मेंद्र प्रकाश दीक्षित, विवेक कुमार, शीतल चौहान, धनंजय, अरुण मिश्र, नीलम पाल, आलोक कुमार, दीप्ति चतुर्वेदी, सत्यपाल सिंह, राजकुमार, शिवप्रताप सिंह, सुरेंद्र कुमार व कुंती राजपूत। इन शिक्षकों के खिलाफ नोटिस हुए जारी

अनुरोध कुमार प्राथमिक विद्यालय घमईया रसूलपुर, मनोज कुमार शाह आलमपुर, अवधेश सिंह संकिसा, शालिनी पाल रुनी सितौली, सुधीर कुमार बमरुलिया, अमित सिंह नगला निशान, मनोज मिश्र मिलकिया पहाड़पुर, विजय सिंह अहमदगंज, श्रीकृष्ण भकुसा, जितेंद्र सिंह नगला विधि, अजय सिंह सवितापुर, गयाप्रसाद सिलसंडा, राघवेंद्र प्रताप सिंह भुवनपुर, सीमा राठौर कांधेमई मिलकिया, हरनाथ सिंह बड़गांव परतापुर।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप