अयोध्या(प्रवीण तिवारी): विधानसभा चुनाव में सियासी दलों के साथ ही सामाजिक संगठनों ने भी जोर आजमाइश शुरू कर दी है। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने न सिर्फ कमर कस ली है बल्कि भारतीय जनता पार्टी को चुनाव में जीत दिलाने के लिए बिसात बिछाना प्रारंभ कर दिया है। संघ यह कार्य पर्दे के पीछे रह कर कर रहा है। बूथों पर राष्ट्रवाद की अलख जगाने को विस्तारक भी तैनात किए जा चुके हैं। महानगर व जिले में मिलाकर हजारों की संख्या में नौजवान लगाए गए है, जो सिर्फ सियासी ²ष्टि से नहीं बल्कि मतदान प्रतिशत भी बढ़ाने की दिशा में कार्य करेंगे। घर-घर जाकर मतदान की महत्ता के बारे में लोगों को बताएंगे। चुनाव के दिन अधिकाधिक मतदान के लिए आह्वान करेंगे। इस सब गतिविधियों पर संघ के उच्चपदस्थ पदाधिकारियों की पैनी नजर है।

-------------

माह भर पूर्व ही शुरू हुई भाजपा को जिताने की मुहिम

अयोध्या: आएसएस के स्थानीय कार्यालय साकेत निलयम में दो माह पूर्व से ही चुनावी हलचल है। पहले चक्र में (अवध प्रांत) प्रांतीय स्तर पर प्रांत प्रचारक की मौजूदगी में संघ के सहयोगी संगठनों की समन्वय बैठक हुई, जिसमें आपस में मिल कर भाजपा को जीत दिलाने की व्यूह रचना तैयार की गई। सभी संगठनों को अलग-अलग जिम्मेदारी दी गई है। इसके बाद प्रांत से नीचे स्तर की इकाइयों में समन्वय प्रारंभ हुआ। इस समय बस्ती (संघ की छोटी इकाई) तक चुनावी शोर सुनाई देने लगा है। मसलन अयोध्या महानगर में 15 नगर और 90 बस्तियां हैं। इन सभी में आठ से दस लोगों की टीम बनाई गई है, जो नित्य सहयोगी संगठनों के मध्य समन्वय स्थापित कर रही है। महानगर में सात सौ कार्यकर्ता व समाज के प्रतिष्ठित लोगों को लगाया गया है। साथ ही साथ मतदाता जागरूकता अभियान को धार दी जा रही है। इसके लिए घर-घर पत्रक बांटा जा रहा है।

---------------

गांव-गांव राष्ट्रवाद की अनुगूंज

अयोध्या: महानगर के अतिरिक्त जिले में भी खंड स्तर पर टीम तैयार की गई है। महानगर के समान ही न्याय पंचायत स्तर पर विस्तारक तैनात कर दिए गए हैं। यह कार्य तकरीबन सभी विधानसभा क्षेत्रों में पूरा हो गया है। न्याय पंचायत की टीम में प्रत्येक गांव को हिस्सेदारी दी गई। यह टीम भी मतदाताओं को जागरूक करेगी। यहां भी पत्रक बांटा जा रहा है। एक विधानसभा क्षेत्र में छह सौ से अधिक कार्यकर्ताओं को उतारा गया है।

Edited By: Jagran