फैजाबाद(जेएनएन)। पेट्रोलियम प्रोडक्ट के बढ़ते मूल्य अंतर्राष्ट्रीय बड़ी समस्या है। इसके लिए विकल्प तलाशने होगें। बीजेपी के शासनकाल में विकल्प के रूप में एथेनाल का प्रयोग शुरू हुआ था। काग्रेस ने योजना को बंद कर किया। मोदी सरकार अब फिर से योजना को शुरू कर रही है। यह बातें राज्यपाल राम नाईक ने गुरुवार को फैजाबाद में नरेंद्र देव कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय कुमारगंज के दीक्षान्त समारोह में कहीं। समारोह के मुख्य अतिथि भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद नई दिल्ली के पूर्व महानिदेशक एवं राष्ट्रीय कृषि विज्ञान अकादमी के अध्यक्ष डॉ. पंजाब सिंह तथा विशिष्ट अतिथि प्रख्यात कृषि वैज्ञानिक मौजूद रहे।

इस दौरान उन्होंने कहा कि कृषि क्षेत्र को समृद्ध करने के लिए किसी शिक्षा को गुणवत्तापरक बनाने की जरूरत है। वहीं, एससी एसटी एक्ट को लेकर भारत बंद पर राज्यपाल ने कुछ न बोलते हुए इसे राजनीतिक विषय बताया। कार्यक्रम में राज्यपाल ने 42 छात्र-छात्राओं को गोल्ड मेडल दिया। साथ ही 588 छात्र छात्राओं को उपाधि दी। गोविंद बल्लभ पंत कृषि विश्वविद्यालय पंतनगर के पूर्व कुलपति को मानद उपाधि दी गई। यहा की पावन भूमि सभ्यता एवं संस्कृति की प्रतीक : राज्यपाल

दीक्षात समारोह को संबोधित करते हुए कुलाधिपति और प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक ने कहा कि यहा की पावन भूमि सभ्यता एवं संस्कृति की प्रतीक है। यही से पूरी दुनिया को वसुधैव कुटुंबकम का संदेश गया है। उन्होंने विश्वविद्यालय के 588 छात्र-छात्राओं को दिए गए उपाधियों में से 522 छात्रों एवं छात्राओं के शामिल होने पर प्रसन्नता व्यक्त की और कहा कि यह इस बात का परिचायक है कि छात्रा भी कृषि क्षेत्र में आगे बढ़ रही हैं और महिला सशक्तिकरण पूरी तरह से दिखाई देने लगा है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस