अयोध्या : राम मंदिर के साथ ही रामनगरी में रेल विकास की परियोजनाएं भी तेजी से आकार ले रही हैं। श्रद्धालुओं की सहूलियत के लिए रेलवे अपनी सेवाओं में विस्तार कर रहा है। केंद्र सरकार की प्राथमिकता में शामिल होने की वजह से योजनाओं को शीघ्र पूरा करने को लेकर अधिकारियों में तत्परता साफ झलक रही है। गत दिनों में मंडल रेल प्रबंधक संजय त्रिपाठी ने अधिकारियों की टीम के साथ अयोध्या-फैजाबाद जंक्शन का निरीक्षण कर योजनाओं की प्रगति देखी। सांसद लल्लू सिंह के साथ भी उन्होंने बैठक कर योजना पर चर्चा की। अब उत्तर रेलवे के शीर्ष अधिकारियों का दल अयोध्या आ रहा है। महाप्रबंधक उत्तर रेलवे आशुतोष गंगल रेल परियोजनाओं को गति प्रदान करने के लिए यहां आ रहे हैं। आगामी 26 नवंबर को उनका यहां आगमन प्रस्तावित है।

अयोध्या-फैजाबाद जंक्शन के पुनर्विकास के साथ ही दोहरीकरण, विद्युतीकरण सहित रामघाट हाल्ट को पूर्ण स्टेशन का दर्जा देने सहित कई बड़ी योजनाओं पर रेलवे कार्य कर रहा है। परियोजनाओं को लेकर केंद्र सरकार की गंभीरता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि दो माह के भीतर मंडलीय अधिकारी यहां दो बार निरीक्षण के लिए आ चुके हैं और अब खुद महाप्रबंधक समीक्षा के लिए आ रहे हैं। महाप्रबंधक बनने के बाद गंगल पहली बार रामनगरी आ रहे हैं। रेल अधिकारियों के इन ताबड़तोड़ दौरों को गत दिनों सांसद की रेलवे बोर्ड के अधिकारियों के साथ हुई मुलाकात से भी जोड़ कर देखा जा रहा है। जीएम के आगमन को लेकर स्थानीय स्तर पर तैयारियां तेज हो गई हैं। एक रेल अधिकारी की मानें तो फैजाबाद जंक्शन के पुनर्विकास को लेकर आर्किटेक्ट की मदद से ले-आउट तैयार कराया जा रहा है। ले-आउट बनने के बाद पहले रेलवे के मंडलीय अभियंताओं को दिया जाएगा, जिसकी डीआरएम समीक्षा करेंगे।

Edited By: Jagran