अयोध्या : अयोध्या कोतवाली क्षेत्र के मांझा बरेहटा में बालू खनन को लेकर अयोध्या एवं बस्ती जिले के विवाद का पटाक्षेप जिलाधिकारी बस्ती डॉ. राजशेखर की रिपोर्ट के बाद होना लगभग तय है। बस्ती जिलाधिकारी की रिपोर्ट दो दिन पहले जिलाधिकारी डॉ. अनिलकुमार को मिली है। खनन अधिकारी वाईएन राम के अनुसार जिलाधिकारी बस्ती की रिपोर्ट के अनुसार विवादित क्षेत्र बस्ती जिले का सीतारामपुर मांझा क्षेत्र है।

सूत्रों के अनुसार जिलाधिकारी बस्ती की रिपोर्ट में बालू खनन का पट्टा शेरखान को देने का उल्लेख है। नियमानुसार बालू का खनन, परिवहन, विक्रय पट्टरधारक कर रहा है। बालू खनन का विवाद दोनों जिलों के मांझा क्षेत्र के सीमा का चिह्नांकन न होने की वजह से बताया गया है। करीब तीन दशक से बस्ती जिले के सीतारामपुर मांझा एवं जिले के मांझा बरेहटा की प्रक्रिया विचाराधीन है। आए दिन दोनों जिलों के लोगों में मांझा क्षेत्र को अपना स्वामित्व बता विवाद करते हैं। दोनों पक्ष अपना-अपना दावा बता रहे हैं। विवाद निस्तारण के लिए गठित संयुक्त टीम के बाद जिलाधिकारी बस्ती की यह रिपोर्ट आई है।

Posted By: Jagran