अयोध्या : मकर संक्रांति के अवसर पर आस्था की धार प्रवाहित हुई। कड़ाके की ठंड और कोरोना संकट को दरकिनार करते हुए श्रद्धालु तड़के से ही पुण्य सलिला सरयू की ओर उन्मुख हुए और पूरे भाव-चाव से डुबकी लगाई। स्नान के बाद सरयू तट पर ही गोदान और पुरोहितों को दान-प्रणाम करने के साथ आस्था का प्रवाह नगरी के आंतरिक परिक्षेत्र की ओर विसर्जित हुआ। अधिसंख्य श्रद्धालुओं ने सरयू स्नान के साथ पौराणिक पीठ नागेश्वरनाथ में विराजे भोले बाबा का अभिषेक किया। मकर संक्रांति की पवित्र बेला में श्रद्धालुओं ने रामलला के साथ हनुमानगढ़ी पहुंच उनके प्रिय-प्रधान दूत बजरंगबली को नमन किया। एक ओर श्रद्धालु स्नान-पूजन से निवृत्त हो रहे थे, दूसरी ओर आसमान में आच्छादित पतंगें मकर संक्रांति की इंद्रधनुषी छटा बिखेर रही थीं। मध्याह्न की दस्तक के साथ नगरी के हजारों मंदिरों में भगवान को खिचड़ी का भोग लगाया गया। यथाशक्ति-तथाभक्ति के हिसाब से खिचड़ी के साथ दही, पापड़, घी, अचार और अन्यान्य व्यंजनों का भी भोग लगाया गया। भोग के बाद भंडारा का भी क्रम चला। रामलला के दर्शन मार्ग पर स्थित मधुर उपासना परंपरा की प्रधान पीठ रंगमहल में महंत रामशरणदास के संयोजन में खिचड़ी भोज की पांत सजी। तदुपरांत महंत ने सहयोगियों के साथ मंदिर के सामने स्टाल लगाकर आम श्रद्धालुओं को खिचड़ी परोसी। -------------इनसेट------------

रामलला को दही, पापड़, घी के साथ लगा खिचड़ी का भोग - लंबे समय से अस्थायी मंदिर और न्यायिक स्थगनादेश की बाध्यताओं में जकड़े रहे रामलला का दरबार प्राय: धार्मिक आयोजनों से वंचित होता रहता था, पर नौ नवंबर 2019 को रामलला के पक्ष में आए अदालती निर्णय के साथ न केवल रामलला के भव्य मंदिर की संभावनाएं सतत प्रशस्त हो रही हैं, बल्कि प्रत्येक पर्व के अनुरूप धार्मिक आयोजन भी विधि-विधान से किए जा रहे हैं। इसी क्रम में शनिवार को रामलला को दही, पापड़, घी, अचार के साथ खिचड़ी का भोग लगाया गया। शनिवार को रामलला के दर्शनार्थियों की लंबी लाइन भी लगी रही।

-----------------------

जगह-जगह स्टाल लगा बांटी गई खिचड़ी

- मकर संक्रांति के अवसर पर जगह-जगह स्टाल लगा खिचड़ी बांटी गई। सिद्धिविनायक सेवा संस्थान की ओर से नाका हनुमानगढ़ी में खिचड़ी भोज का आयोजन किया गया। भोज संचालन में संस्था के संरक्षक अशोक कुमार शास्त्री, कोषाध्यक्ष गौरव श्रीमाली, राजू, महामंत्री विशाल अग्रवाल, सचिव अभिषेक गोयल, गुरुदीन गुप्त, नितिन गुप्त, पुनीत अग्रवाल, अंकित गुप्त, रंजीत जयसवाल, आलोक शुक्ला, जंगजीत तिवारी आदि प्रमुख सहयोगी रहे। इससे पूर्व संस्था की ओर से नाका हनुमानगढ़ी के महंत रामदास का अभिनंदन किया गया। राष्ट्रीय शिवसेना की तरफ से खिचड़ी बांटी गई। तपस्वी छावनी पीठाधीश्वर जगद्गुरु परमहंस आचार्य ने श्रद्धालुओं को खिचड़ी बांट कर स्टाल का उद्घाटन किया। इससे पूर्व राष्ट्रीय शिवसेना के संस्थापक धर्मेंद्र पांडेय ने स्वामी परमहंस को राष्ट्रीय शिवसेना का राष्ट्रीय अध्यक्ष मनोनीत किया तथा संगठन के पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं ने माल्यार्पण कर उनका स्वागत भी किया। मित्र मंच प्रमुख शरद पाठक के संरक्षण में देवकाली तिराहा पर स्टाल लगाया गया। पाठक ने राहगीरों को खिचड़ी बांट कर स्टाल का उद्घाटन करने के बाद कहा, खिचड़ी समरसता की परिचायक है और खिचड़ी से प्रेरित हो भारतीय समाज को भी उत्तरोत्तर प्रगति के पथ पर बढ़ना होगा। इस मौके पर मित्र मंच के प्रदेश प्रभारी राजा पाठक, युवा मित्र मंच के प्रदेश अध्यक्ष यश पाठक, प्रदेश उपाध्यक्ष सागर सिंह, अनुभव तिवारी, टिकू कैटरर्स, मुदित दुबे, नीरज निषाद, आयुष मिश्र, आयुष पांडेय, मंगल गुप्त, अशोक कौशल, सैयाद खान, इश्तियाक खान, आकाश, राकेश मौर्य, विकास निषाद, मोनू चक्रवर्ती आदि मौजूद रहे।

--------------

पवित्र बेला में कंबल वितरण का पुण्य

- संकटमोचन हनुमानकिला के महंत परशुरामदास के संयोजन में सैकड़ों संतों एवं जरूरतमंदों को मकर संक्रांति की पूर्व बेला में कंबल वितरित किया गया। कंबल प्राप्त करने वालों को अत्यंत आदर पूर्वक बैठा कर चूड़ा-दही के साथ खिचड़ी खिलाई गई। इस मौके पर समाजसेवी एवं भाजपा नेता विकास सिंह भी मौजूद रहे।

---------------

हट्ठी महारानी को लगा 15 क्विटल खिचड़ी का भोग

- चौक स्थित मां हट्ठी महारानी मंदिर पर मां हट्ठी महारानी को 15 क्विटल खिचड़ी का भोग लगाया गया। मंदिर सेवा समिति के प्रबंधक अशोक सहदेव, मंत्री नीरज अग्रवाल ने इससे पूर्व मां की आरती की। मंदिर सेवा समिति के प्रवक्ता केशव बिगुलर के अनुसार प्रसाद वितरण मध्याह्न 12 बजे से सायं सात बजे तक चलता रहा।

Edited By: Jagran