अयोध्या : रुपये न देने पर एक व्यक्ति ने अपनी पत्नी को आग के हवाले कर दिया। मां और पिता के बीच विवाद होता देख बेटी ने बचाने का प्रयास किया तो डीजल उसपर गिरा और वह आग की चपेट में आई। घटना में मां तो बच गई, लेकिन बेटी गंभीर रूप से झुलस गई। गंभीरावस्था में उसे जिला अस्पताल लाया गया, जहां हालत ठीक न देखते हुए उसे लखनऊ रेफर कर दिया गया। संवेदनहीन पिता की करतूत से जुड़ी यह वारदात कैंट थाना क्षेत्र अंतर्गत हाशापुर गांव की है।

गांव निवासी नेतराम ने कुछ दिनों पहले अपनी जमीन बेची थी। नेतराम नशे का आदी था, इसलिए गुड्डी उसे रुपये नहीं देती थी। थाना प्रभारी आशुतोष मिश्र ने बताया कि शुक्रवार की रात दोनों के बीच इसी को लेकर विवाद हो रहा था। झगड़ा बढ़ने पर नेतराम डीजल लेकर आया और पहले घर के बिस्तर को आग लगाई। उसके बाद पत्नी के ऊपर डीजल डालकर उसे जलाने का प्रयास करने लगा। वहां मौजूद नेतराम की 18 वर्षीय बेटी नंदिनी मां को बचाने के लिए सामने खड़ी हो गई। पूरा डीजल नंदिनी पर गिर गया।

इसी बीच नेतराम ने माचिस जलाकर पत्नी की ओर फेंका, लेकिन बीच में नंदिनी आ गई। नेतराम की भड़काई आग में नंदिनी जलने लगी। चीख सुनकर आसपास के लोग पहुंचे तो वहां का नजारा रोंगटे खड़े करने वाला रहा। आग लपटों से घिरी नंदिनी को किसी तरह बचाकर गांव वाले जिला अस्पताल पहुंचे। करीब 80 फीसदी जल चुकी नंदिनी की हालत गंभीर देखते हुए डॉक्टरों ने उसे तत्काल लखनऊ रेफर कर दिया। घटना के बाद नेतराम मौके से भाग निकला। सीओ सिटी अरविद चौरसिया ने घटनास्थल पहुंच हालात का जायजा लिया और आरोपी के खिलाफ सख्त कार्रवाई का निर्देश दिया। नंदिनी की बहन प्रीती की तहरीर पर नेतराम के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। नेतराम की तलाश की जा रही है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस