सोहावल (अयोध्या) : जिले में एक बार फिर साइबर ठगी का मामला सामने आया है। इस बार रौनाही क्षेत्र सीबार के एक कॉलेज परिसर स्थित बैंक ऑफ बड़ौदा की शाखा से दो दर्जन खाताधारकों के खाते से रुपये निकाले गए हैं। साइबर ठगों की इस वारदात से खाताधारकों के साथ बैंक प्रबंधन भी परेशान है। सूचना के बाद बैंक परिसर में हंगामे की स्थिति रही। ग्राहक अपने खातों से निकली रकम वापस कराने की मांग कर रहे थे। जानकारी होने के बाद बॉब के रीजनल हेड सहित कई अधिकारी मौके पर पहुंचे। पूरे मामले की जानकारी ली। इस बड़ी साइबर ठगी के शिकार खाताधारकों ने बैंक मैनेजर नवनीत वर्मा से इसकी शिकायत की। साथ ही चौकी प्रभारी सत्तीचौरा को तहरीर दी। जांच बैंक की आइटी सेल कर रही है।

मामला सोमवार दोपहर का है, जब रामनगर निवासी रामप्रकाश सिंह अपने खाते से पैसा निकालने गए तो उनके अकाउंट में 20 हजार नहीं थे। मामले की जानकारी होते ही अन्य खाता धारकों में हड़कंप मच गया, जिसमें सुनीता सिंह के अकाउंट से 10 हजार, राजेंद्र सिंह के दो हजार, संदीप के तीन हजार, अंकित के पांच हजार, शिवम के चार हजार, दीपक के छह हजार, विकास सिंह के पांच हजार, अमरेश के सात सौ, बेचू सिंह के एक हजार व श्रीचंद वर्मा के 20 हजार रुपये निकल गए है। खाताधारकों की भीड़ देख बैंक मैनेजर ने नवनीत वर्मा ने आनन-फानन क्षेत्र में माइक से घोषणा कराई कि इस बैंक के जितने खाताधारक हैं, सब अपना खाता लॉक करा लें।

ब्रांच मैनेजर ने बताया कि इसकी जानकारी उच्चाधिकारियों को दी गई है। चौकी प्रभारी अविनाश प्रताप सिंह ने तहरीर मिलने की पुष्टि की, जिसमें दिल्ली के नरैला स्थित जनसेवा केंद्र से पैसा निकलने की बात सामने आ रही है। रीजनल हेड निहाल रंजन प्रधान के साथ रहे अन्य अधिकारी राजीव रंजन सिंह ने बताया कि खातों में धनराशि वापस कराने की कोशिश की जा रही है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस