अयोध्या : गणतंत्र दिवस से पहले रामनगरी के साथ एक गंभीर साजिश की आशंका सामने आई है। जालपा नाला पर बने रेल पुल संख्या 297 पर ट्रैक को जोड़ने के लिए लगे तीन हुक बोल्ट तथा तीन आउटर बोल्ट लापता देख रेलवे में हड़कंप मच गया है। चैनल स्लीपर और पटरी को पुल से जोड़कर रखने में यह बोल्ट काफी महत्वपूर्ण होते हैं। सीनियर सेक्शन इंजीनियर एल बराइक ने इससे रेल हादसा होने की आशंका व्यक्त करते हुए रेलवे सुरक्षा बल एवं कोतवाली अयोध्या में तहरीर दी है। आरपीएफ ने बोल्ट चोरी का मुकदमा दर्ज कर लिया है। रेल पथ की निगरानी से जुड़े एक जिम्मेदार अधिकारी ने इसके पीछे गहरी साजिश की आशंका व्यक्त की है। यह घटना रविवार को प्रकाश में आई। एक रेल कर्मी ने रेल पुल से बोल्ट लापता देख सीनियर सेक्शन इंजीनियर (एसएसई) बराइक को इसकी सूचना दी। एसएसई ने मौके पर पहुंचकर स्थिति का जायजा लिया। एसएसई की माने रेल पुल पर लगे बोल्ट को कोई आसानी से नहीं खोल सकता है। इसमें रिच एवं अन्य उपकरणों की मदद से ही काफी मशक्कत के बाद खोला जा सकता है। ऐसे में इस घटना को सामान्य चोरी नहीं माना जा सकता है। यदि दो-तीन बोल्ट और लापता हो जाते थे ट्रेन भी पलट सकती थी। घटना प्रकाश में आने के बाद तत्काल ट्रैक मरम्मत का कार्य आरंभ किया गया। ट्रेनों का संचालन कासन पर किया गया। रेलवे सुरक्षा एजेंसियों ने इसे सामान्य चोरी बताई है। विधानसभा चुनाव एवं गणतंत्र दिवस के मद्देनजर प्रकरण उजागर होने के बाद सुरक्षा एजेंसियों के कान खड़े हो गए हैं। सीनियर सेक्शन इंजीनियर बराइक ने बताया कि घटना से संबंधित तहरीर रेलवे सुरक्षा बल एवं अयोध्या कोतवाली में दे दी गई है।

Edited By: Jagran