अयोध्या : ब्राह्मण हमेशा राष्ट्र का अगुआ रहा है। जब भी राष्ट्र व धर्म पर आपत्ति आई है, हमेशा ब्राह्मण ने अगुवाई करके इसे बचाया है। राष्ट्र है तो सब कुछ है, अगर राष्ट्र ही नहीं रहेगा तो सब कुछ उजड़ जाएगा। कुछ भेड़िए हमारी रक्षा करने की बात करते हैं, जो उनके लाभ के लिए ही होती है। यह उद्गार हैं, रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपालदास के उत्तराधिकारी महंत कमलनयनदास के। वह अखिल भारतीय चाणक्य परिषद के 28वें स्थापना दिवस के अवसर पर भरतकुंड पर आयोजित ब्राह्मण सम्मेलन व खिचड़ी भोज के कार्यक्रम में विचार व्यक्त कर रहे थे। कार्यक्रम की शुरुआत परिषद के राष्ट्रीय संरक्षक कृपानिधान तिवारी व जिलाध्यक्ष दुर्गाप्रसाद तिवारी आफत ने भगवान परशुराम व चाणक्य के चित्र पर माल्यार्पण कर की। कृपानिधान तिवारी ने राष्ट्रपति से मांग की कि देश में आरक्षण आर्थिक आधार पर लागू किया जाए न कि जातीय आधार पर और आरक्षण की मौजूदा व्यवस्था को समाप्त किया जाय। देश में सवर्ण आयोग का गठन किया जाय। हिदुओं के आराध्य भगवान परशुराम के जन्म दिवस पर राष्ट्रीय अवकाश की घोषणा करने की भी मांग की। इस दौरान डा. आरडी पांडेय, राधिकाप्रसाद पांडेय, डा. रामकृष्ण पांडेय, डा. रामतेज पांडेय, लखनऊ से आए महंत सुरेंद्र पांडेय सहित परिषद के सदस्यों ने संबोधित किया। इस मौके पर बसपा नेता करुणाकर पांडेय, सुनील पाठक, सांवलेप्रसाद शुक्ल, रवि मिश्र, मधु पाठक, रमाकांत दुबे, पूर्व प्रधान रामकृष्ण पांडेय, योगेश मिश्र, विनोद पांडेय सहित काफी संख्या में ब्राह्मण मौजूद रहे।

भागवत कथा से पूर्व निकली कलश यात्रा

अयोध्या : बड़ागांव के शिवचरण का पुरवा स्थित श्री दिगंबरनाथ मंदिर में सात दिवसीय भागवत कथा का आयोजन किया गया। कथा से पूर्व शनिवार को गाजे-बाजे के साथ कलश यात्रा निकाली गई। मंदिर के महंत त्यागी जी महाराज ने बताया कि 16 जनवरी से 23 जनवरी तक श्रीमद्भागवत कथा चलेगी। हर दिन यज्ञ भी किया जाएगा। 23 जनवरी को पूर्णाहुति के बाद 101 कन्याओं को भोजन कराया जाएगा। 24 जनवरी को भंडारे का आयोजन होगा।

Edited By: Jagran