अयोध्या, जेएनएन। रामजन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपालदास के 10 दिवसीय 81वें जन्मोत्सव का उद्घाटन करने आए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सांस्कृतिक राष्ट्रवाद के एजेंडे को धार दे गए। मणिरामदास जी की छावनी परिसर में करीब 35 मिनट के उद्बोधन के दौरान मुख्यमंत्री ने कहा, अपनी संस्कृति को विस्मृत कर कोई राष्ट्र आगे नहीं बढ़ सकता। आज भारत इसीलिए बुलंदियों को छू रहा है क्योंकि हम अपनी जड़ों से जुड़ रहे हैैं, अपनी संस्कृति को शिरोधार्य कर रहे हैं। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि आज देश में सकारात्मक सोच की सरकार है, जो आस्था एवं विरासत के साथ देश को आगे बढ़ाने का कार्य कर रही है। इस दिशा में उन्होंने केंद्र के साथ प्रदेश सरकार के प्रयासों का भी जिक्र किया और अयोध्या में हुए कार्यों की चर्चा की। मुख्यमंत्री ने याद दिलाया कि इस वर्ष दो अहम घटनाएं हुई हैं। पहली यह कि केंद्र में नरेंद्र मोदी की सरकार प्रचंड बहुमत के साथ दूसरी बार आई और दूसरी यह कि प्रयाग कुंभ का आयोजन बेहद भव्यता से हुआ।

मुख्यमंत्री ने कुंभ में प्रधानमंत्री मोदी द्वारा स्वच्छता कर्मियों का पद प्रक्षालन किए जाने को इतिहास की अद्भुत घटना बताया। कहा कि प्रधानमंत्री ने यह पुष्ट किया कि भारतीय समाज में राजा-रंक के बीच भेद नहीं रहा है, न ही अस्पृश्यता के लिए कोई जगह है। उन्होंने कहा कि राम की पावन जन्मभूमि से सबके सुख और सबके मंगल का ऐसा संदेश जाना चाहिए, जिससे भव्य राममंदिर निर्माण का मार्ग भी प्रशस्त हो सके। मुख्यमंत्री ने विपक्ष पर भी हमला बोला और कहा कि जो लोग नकारात्मक राजनीति कर रहे थे, वे खारिज हो गए। समाज के बारे में जो अंत:करण से सोचेगा, देश उसके साथ खड़ा होगा।

करीब चार घंटे के अयोध्या प्रवास में ने तुलसी स्मारक भवन में कोदंड राम की प्रतिमा का अनावरण किया, रामजन्मभूमि एवं हनुमानगढ़ी का दर्शन किया तथा अपने ड्रीम प्रोजेक्ट के रूप में विकसित किए जा रहे राम की पैड़ी के विकास कार्य, भजन सत्संग स्थल तथा बस स्टेशन के निर्माण का जायजा लिया। इससे पहले मुख्यमंत्री का हेलीकाप्टर हवाई पट्टी पर उतरा। सड़क मार्ग से सीएम सबसे पहले अयोध्या शोध संस्थान पहुंचें। वहां कोदंड राम की प्रतिमा का अनावरण किया। इसके बाद दीप प्रज्ज्वलित कर नृत्य गोपाल दास जी के जन्मोत्सव का शुभारंभ किया। 

अयोध्या यात्रा के दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राम लला के भी दर्शन किया। इसके बाद उन्होंने श्री राम की पैड़ी का निरीक्षण किया। इस दौरान राम की पैड़ी पर सीएम योगी ने दलित महादेव के परिवार से मुलाकात की। अयोध्या के पिछले दौरे पर सीएम योगी ने इसी दलित के घर किया था भोजन। 

कोदंड राम की प्रतिमा का अनावरण

7 फीट की है प्रतिमा 
अयोध्या शोध संस्थान ने काष्ठ कला की दुर्लभ कृति कोदंड राम की प्रतिमा को कर्नाटक के कावेरी कर्नाटक स्टेट आर्ट्स एवं क्राफ्ट एम्पोरियम से 35 लाख रु. में खरीदा गया है। प्रतिमा का अनावरण अस्थाई स्थल पर कराया जाएगा और बाद में लाइब्रेरी में इसका स्थाई प्लेटफॉर्म बन जाने पर इसे वहां स्थापित कर दिया जाएगा। अयोध्या में कोदंड राम की लगाई गई प्रतिमा सात फीट ऊंची है। इसे बंगलुरू के एम राममूर्ति व एम भूपति नामक दो विख्यात कलाकार भाइयों ने बनाया है। एम राममूर्ति को राष्ट्रपति पुरस्कार से भी नवाजा जा चुका है। 

क्या है कोदंड ? 
भगवान राम के धनुष का नाम कोदंड था। कोदंड का अर्थ होता है बांस से निर्मित। कोदंड एक चमत्कारिक धनुष था, जिसे हर कोई धारण नहीं कर सकता था। इससे छोड़ा गया बाण लक्ष्य को भेदकर ही वापस आता था। कोदंड नाम से भिलाई में एक राम मंदिर भी है, जिसे कोदंड रामालयम मंदिर कहा जाता है। भगवान राम की यह प्रतिमा देखने में काफी आकर्षक है और इसे काष्ठ कला की एक दुर्लभ कृति माना जा रहा है। सीएम योगी आदित्यनाथ इसके बाद कैरेबियन देशों की रामलीला यात्रा, अयोध्या की पुरातात्विक रिपोर्ट, थारूओं की कला संस्कृति एवं अवध की लोक चित्रकला पुस्तक का लोकार्पण किया।

दोपहर में 3.25 बजे सीएम योगी आदित्यनाथ मणिरामदास छावनी में आयोजित महंत नृत्यगोपालदास के 81वें जन्मोत्सव कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे। अपराह्न 4.30 बजे से सायं पांच बजे तक कार्यक्रम आरक्षित है। सायं पांच बजे से वह अयोध्या के विकास कार्यों का वह निरीक्षण करेंगे। निरीक्षण कार्यक्रम में राम की पैड़ी, भजन स्थल, बस स्टेशन निर्माण एवं गुप्तारघाट के सौन्दर्यीकरण शामिल हैं। सीएम के निरीक्षण को लेकर कार्यदायी संस्थाओं के होश उड़े हैं। निरीक्षण के बाद लखनऊ उडऩे के लिए सीएम सायं 6.10 बजे हवाई पट्टी पहुंचेंगे।

 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Dharmendra Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप