अयोध्या : 2019 के लोस चुनाव में भी भाजपा को बहुमत हासिल होगा और नरेंद्र मोदी पुन: प्रधानमंत्री बनेंगे। रामजन्मभूमि पर रामलला का प्राकट्य होगा और अगले साल से ही राममंदिर का निर्माण शुरू होगा। यह भविष्यवाणी है, देश की चमत्कारिक धरोहर माने जाने वाले गुजरात के सुप्रसिद्ध संत प्रहलाद भाई जानी उर्फ चुनरी वाली माता जी की। रामचरितमानस पारायण के एक अनुष्ठान के सिलसिले में चुनरी वाली माता जी शनिवार को रामनगरी में थे। रामलला का दर्शन के बाद चुनरी वाली माता ने प्रतिष्ठित पीठ रामवल्लभाकुंज मंदिर के अधिकारी राजकुमारदास से भेंट की। इस दौरान मीडिया के कुरेदने पर गुजराती में बोलने वाले बाबा ने अपने सहयोगी जसवंत पटेल की मदद से खुलकर बातचीत की। उन्होंने कहा, मंदिर-मस्जिद विवाद का सर्वश्रेष्ठ समाधान यह है कि वहां की धरती से रामलला का प्राकट्य हो। ताकि यह चमत्कारिक ढंग से सिद्ध हो सके कि वह रामलला की भूमि है और उस भूमि को लेकर किसी विवाद की नौबत ही न रह जाय। उस भूमि पर नए सिरे से रामलला का प्राकट्य कैसे संभव होगा? इस उत्सुकता के जवाब में बाबा ने बताया कि आगामी छह दिसंबर को वे विशेष साधना के माध्यम से यह तय करेंगे कि रामजन्मभूमि पर रामलला का प्राकट्य कब होगा। रामलला के प्राकट्य को लेकर उन्होंने राजकुमारदास से भी आध्यात्मिक-सांस्कृतिक स्तर पर तैयार रहने को कहा। बाबा ने भविष्यवाणी के अंदाज में यह भी कहा कि अगले साल से न केवल रामजन्मभूमि पर मंदिर निर्माण शुरू होगा बल्कि लोग लोस चुनाव को भाजपा को फिर बहुमत मिलेगा और नरेंद्र मोदी पुन: प्रधानमंत्री बनेंगे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप