मसौधा (अयोध्या) : विलुप्त हो रही जीवनदायिनी तमसा नदी के जीर्णोद्धार की मुहिम तेज पकड़ने लगी है। गहरीकरण के कार्य में मशीनरी का प्रयोग होने से तमसा के कायाकल्प को पंख लगेंगे। इसके लिए सात ग्राम पंचायतों ने वृहद कार्ययोजना बनाई है, जिसे वित्तीय स्वीकृति मिल गई है।

जिले में उद्गम स्थल से आखिर तक कई जगह पहचान खो चुकी तमसा के अस्तित्व को खतरे में देख पुराने रूप में लाने के लिए तत्कालीन जिलाधिकारी डॉ. अनिल कुमार ने प्रोजेक्ट तैयार कराया था। जिन ग्राम पंचायतों में तमसा थी, उन्होंने मनरेगा मजदूरों को लगाकर कार्य चालू करा दिया। तपती धूप, कंकरीली चट्टान जैसी मिट्टी को खोदने में मजदूरों की हालात खराब हो गई, इस कारण नदी का गहरी व चौड़ीकरण का कार्य न होकर घास सफाई तक सीमित रह गया। ग्राम प्रधानों ने पत्र भेजकर खंड विकास अधिकारी से मशीन से खोदाई कराने की मांग की। बीडीओ ने जिला पंचायतराज अधिकारी से 14वें वित्त से मशीन से खोदाई के लिए सात ग्राम सभाओं के लिए करोड़ों रुपये का स्टीमेट लगाकर तकनीकी स्वीकृति के लिए 25 अप्रैल को पत्र भेजा। ------------------- सवा 13 किलोमीटर नदी की सुधरेगी सेहत

-ग्रामसभा गयासपुर में दो भाग में सात लाख 32 हजार 863 व आठ लाख 35 हजार 904, खेमीपुर निधियावा में पांच लाख 40 हजार 944 व आठ लाख 11 हजार 81, तारडीह आठ लाख 19 हजार 635, छह लाख 65 हजार 907 तथा छह लाख 30 हजार नौ सौ, ककोली में पांच लाख 76 हजार 889, छह लाख दो हजार 386, गुरौली आठ लाख 35 हजार 325, छह लाख 81 हजार 344, बरेहटा में आठ लाख 32 हजार 20, आठ लाख 32 हजार 239 व पांच लाख 41 हजार 352 तथा बाहरपुर में सात लाख 13 हजार 908 और छह लाख 63 हजार 494 रुपये का स्टीमेट बनाया गया है।

------------------------

बोले जिम्मेदार..

खंड विकास अधिकारी डॉ. घनश्याम त्रिपाठी ने बताया कि मंजूरी के लिए पत्र व स्टीमेट अधिकारी को भेज दिया गया है। मंजूरी अभी नहीं मिली है। 21 मई तक कार्य पूर्ण कराने के निर्देश को देखते हुए चुनाव बाद मंजूरी मिल जाएगी। अधिकारियों के संकेत पर जेसीबी से खोदाई चालू करा दिया गया है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप