जागरण संवाददाता, इटावा : शासन के निर्देशानुसार अपर जिलाधिकारी जय प्रकाश द्वारा सोमवार की शाम को कलेक्ट्रेट के विभिन्न पटलों के 39 लिपिकों के तबादले कर दिए गए। जिसके बाद लिपिकों में आक्रोश भर गया। जिलाध्यक्ष कलेक्ट्रेट कर्मचारी संघ श्याम राज गुप्ता ने इस्तीफा देने की धमकी दी है और नौकरी छोड़ने की भी चेतावनी दी है। संघ के पदाधिकारी मंगलवार को जिलाधिकारी श्रुति सिंह से मिले और उनसे तबादलों को लेकर आक्रोश जताया। जिलाधिकारी ने लिपिक रूप से प्रत्यावेदन देने को कहा है। पत्रकारों से बातचीत करते हुए संघ के अध्यक्ष श्याम राज गुप्ता ने जिलाधिकारी कार्यालय के बाहर बताया कि तबादले बिना सोचे समझे किए गए हैं। दिव्यांगों को जिला मुख्यालय से हटा दिया गया है। कई लोग ऐसे हैं जो 15-15 साल से कलेक्ट्रेट में जमे हुए हैं उन्हें नहीं हटाया गया है इसी बात का हम विरोध कर रहे हैं। उन्होंने यह भी कहा कि जिलाधिकारी ने उनसे प्रत्यावेदन मांगे हैं। अगर हमारी मांगों पर विचार नहीं हुआ तो बुधवार से वे कलेक्ट्रेट में धरना प्रदर्शन करेंगे। इस संबंध में जिलाधिकारी श्रुति सिंह ने बताया कि शासन के आदेश के बाद तीन साल से एक ही सीट पर जमे हुए लिपिकों का स्थानांतरण किया गया है। 39 लिपिकों का स्थानांतरण किया गया है। फिर भी किसी को लगता है कि किसी के साथ अन्याय हुआ है तो वह लिखकर प्रत्यावेदन दे सकता है। उसकी समस्या पर विचार किया जाएगा। स्थानांतरण होना एक सामान्य प्रक्रिया है। सभी के स्थानांतरण किए जाते हैं। इन लिपिकों का हुआ स्थानांतरण श्यामराज गुप्ता, सूरज प्रसाद, अजय कुमार श्रीवास्तव, अजय कुमार, रामकांती शुक्ला, राजेंद्र कुमार शाक्य, देवेंद्र सक्सेना, दिनेश चंद मिश्रा, उमाकांत दुबे, राना बेगम, हरिओम सविता, अंजू तिवारी, देवव्रत नारायण चतुर्वेदी, विनोद कुमार पांडेय, अनीता यादव, हरगोविद सिंह, विवेक वर्मा, जितेंद्र कुमार, स्वदेश कुमार, अरुण कश्यप, नीलम गुप्ता, जितेंद्र कुमार बाथम, गुलाम अली, अशोक कुमार, सयैद असगर राजा रिजवी, ऊषा देवी, विनोद कुमार, अर्चना शुक्ला, अनुराधा कनौजिया, ईश्वर दयाल, राजेश कुमार सरोज, राजेंद्र कुमार हेला, राजकुमार दीक्षित, अरुण कुमार सक्सेना, शिवदत्त, सुरेंद्र सिंह धर्मेंश कुमार, राघवेंद्र त्रिपाठी, प्रभात कुमार शामिल हैं।

Edited By: Jagran