जागरण संवाददाता, इटावा : वर्तमान दौर में खानपान के प्रति सजगता नहीं बरते जाने से कुपोषण बढ़ रहा है। कुपोषण दूर करने के लिए घर-घर जैविक खाद से पोषण वाटिका पल्लवित होनी चाहिए। इसके लिए कृषि विज्ञान केंद्र के माध्यम से जिस तरह महिलाओं को जागरूक किया जा रहा है, वह काफी सराहनीय कार्य है।

यह उद्गार मुख्य अतिथि के रूप में कृषि इंजीनियर कालेज के डीन डा. देवेंद्र सिंह ने कृषि विज्ञान केंद्र के तत्वावधान में आयोजित पोषण वाटिका महा अभियान तथा पौधरोपण कार्यक्रम में उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए प्रकट किए। इस मौके पर सभी अतिथियों ने परिसर में पौधरोपण किया तथा महिलाओं को जागरूक करते हुए उनके नीबू, सहजन के पौधे तथा रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाली सब्जियों के बीज निश्शुल्क प्रदान किए। विशिष्ट अतिथि के रूप में उप कृषि निदेशक अभिनंदन सिंह ने पोषण वाटिका की उपयोगिता पर प्रकाश डाला तथा जैविक रूप से वाटिका पल्लवित करने को प्रेरित किया। कृषि विज्ञान केंद्र अध्यक्ष डा. धनंजय सिंह ने सभी का आभार व्यक्त करते हुए महा अभियान के उद्देश्य पर विस्तार से बताते हुए कहा कि पोषण वाटिका के माध्यम से कुपोषण समाप्त होगा। कृषि वैज्ञानिक भूपेंद्र सिंह चौहान, इफ्को के हैदरअली तथा डा. बीवी जायसवाल ने महिलाओं को जागरूक किया। गृह वैज्ञानिक सुनीता मिश्रा ने महिलाओं को स्वस्थ रहने के तरीके बताते हुए सभी का धन्यवाद ज्ञापित किया, कार्यक्रम का संचालन एमके सिंह ने किया। काफी संख्या में महिलाओं तथा कन्याओं ने भाग लिया।

----------

रुद्राक्ष व पारिजात के पौधों को रोपा

जासं, इटावा : प्रशांत फाउंडेशन द्वारा चलाए जा रहे पौधा दान महाअभियान के तहत सैफई में पौधारोपण कार्यक्रम किया गया। कार्तिकेय यादव ने रुद्राक्ष और पारिजात और शमी के पौधों का रोपण किया। फाउंडेशन के संस्थापक डा. रिपुदमन सिंह यादव ने कहा है कि पेड़ों से आसपास का वातावरण सदैव शुद्ध रहता है। राष्ट्रीय अध्यक्ष डा. हेमंत यादव ने कहा कि प्रकृति को सुरक्षित एवं शुद्ध रखने के लिए फाउंडेशन अधिक से अधिक पौधे लगाने के लिए लोगों को प्रेरित किया जा रहा है। कार्यक्रम में सुशांत सिंह बुंदेले, अर्पित यादव, रंजीत यादव, विमलेश यादव, अवनीश यादव, सुरजीत यादव, जय सिंह मौजूद रहे।

Edited By: Jagran