संवादसूत्र, बकेवर : गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले अंत्योदय कार्डधारक परिवारों की सेहत का जिम्मा अब सरकार संभालेगी। ऐसे परिवारों को आयुष्मान योजना से जोड़ने का कार्य शुरू हो गया है। जिसके चलते एक साल में पांच लाख रुपये तक का इलाज निश्शुल्क दिया जाएगा। गरीबों को पांच लाख रुपये प्रतिवर्ष का इलाज दिलाने के लिए सरकार के द्वारा आयुष्मान भारत योजना का संचालन किया जा रहा है। इस योजना के तहत वर्ष 2011 में किये गये सर्वे के आधार पर गरीब लोगों को शामिल करके शासन से स्वास्थ्य विभाग को सूची भेजी गई है। जिसके आधार पर इन लोगों के गोल्डन कार्ड बनाने की प्रक्रिया शुरु की गयी है। इस सूची के बाद भी कई गरीब इस सूची में शामिल रहने से वंचित रह गए थे। शासन ने ऐसे अंत्योदय कार्ड धारक गरीबों को आयुष्मान भारत से जोड़ने की कवायद शुरु करा दी है। अभी हाल में ब्लाक परिसरों में लगाये गये मेला में गोल्डन कार्ड बनाने प्रारंभ किए हैं। अब यह गरीब लोग अपना गोल्डन कार्ड सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर बनबा सकते हैं। महेवा सीएचसी प्रभारी डा. गौरव त्रिपाठी ने बताया कि जिन अंतोदय कार्ड धारकों के नाम 2011 की सूची में जुड़ने से वंचित रह गए थे, ऐसे लोगों के कार्ड के आधार गोल्डन आयुष्मान कार्ड बनाए जा रहे हैं।

---------------

वंचित किसान पाएं सम्मान निधि

जागरण संवाददाता, इटावा : उप कृषि निदेशक अभिनंदन सिंह ने बताया कि प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना का लाभ पाने से जो पात्र किसान वंचित रह गए हैं वे 11 से 13 अक्टूबर के मध्य हर ब्लाक स्तर पर स्थापित राजकीय कृषि बीज भंडार पर जाकर वहां के प्रभारी के पास आधार कार्ड, बैंक पासबुक तथा खतौनी की कापी जमा करा दें। वे किसान भी इस तीन दिवसीय अभियान का लाभ उठा सकते हैं जिन्हें एक-दो किस्त मिलने के बाद डाटा त्रुटिपूर्ण होने से किस्त मिलना बंद हो गई है। सभी लोग अपना डाटा सही तरीके से फीड कराएं।

Edited By: Jagran