इटावा की सेंट्रल जेल में रखे जाएंगे आठ जिलों के कैदी

गौरव डुडेजा, इटावा :

इटावा की सेंट्रल जेल में आठ जिलों के कैदियों को रखने का निर्देश शासन ने दिया है। यह जेल महोला गांव में स्थित है। 1942 कैदी की क्षमता वाली इस सेंट्रल जेल में इटावा, कन्नौज, कानपुर नगर, कानपुर देहात, उरई, जालौन, झांसी व ललितपुर के कैदी रखे जाएंगे। सात वर्ष से ऊपर के सजा वाले कैदियों को इस जेल में रखा जाएगा। इसको शुरू करने की तैयारी चल रही है। सामान व पद का सृजन किया जा रहा है। जेल अधीक्षक व एक जेलर ने कार्यभार संभाल लिया है। इस जेल का विधान सभा चुनाव से पहले 6 नवंबर 2021 को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुभारंभ किया था।

नई सेंट्रल जेल के लिए शासन ने तैयारियां शुरू कर दी हैं। जेल के लिए 100 सिपाही सहित माली, चौकीदार, मैस की व्यवस्था व अन्य कार्यों के लिए करीब 250 कर्मचारियों का स्टाफ चाहिए होगा। शुरुआत में दो जेलर की कम से कम तैनाती आवश्यक है। शासन ने एक जेलर की तैनाती यहां पर कर दी है। शेष स्टाफ की तैनाती करने की तैयारी चल रही है। माना जा रहा है कि 30 जून के बाद स्टाफ की तैनाती कर दी जाएगी।

कई सुविधाएं होंगी सेंट्रल जेल में

सेंट्रल जेल में कई सुविधाओं का ध्यान रखा गया है। कैदियों के लिए जहां पाठशाला की व्यवस्था होगी वहीं अत्याधुनिक भंडार गृह भी बनाया गया है। पानी के लिए वाटर कूलर व आरओ की व्यवस्था भी की गई है। अस्पताल का सामान भी आ गया है। इसके साथ-साथ कार्यालय के लिए फर्नीचर भी तैयार होकर आ गया है। जेल से ही वीडियो कान्फ्रेंसिंग करने की सुविधा भी होगी।

छठवीं सेंट्रल जेल होगी प्रदेश में

इटावा की सेंट्रल जेल प्रदेश में छठवीं सेंट्रल जेल होगी। इससे पहले सेंट्रल जेल आगरा, फतेहगढ़, नैनी-प्रयागराज, वाराणसी व बरेली में मौजूद है। सेंट्रल जेल होने से जहां शासन को बढ़े हुए कैदियों को समायोजित करने में सुविधा होगी, वहीं पुरानी सेंट्रल जेलों में ओवर लोड कैदियों की संख्या घटेगी।

नई सेंट्रल जेल के लिए व्यवस्थाएं की जा रहीं हैं। स्टाफ का सृजन शासन द्वारा किया जा रहा है। उम्मीद है कि जल्द से जल्द यह व्यवस्थाएं कर ली जाएंगी।

डा. रामधनी, वरिष्ठ अधीक्षक सेंट्रल जेल

Edited By: Jagran