जागरण संवाददाता, इटावा : शहर में इस समय फेसबुक मैसेंजर पर मैसेज एवं कॉल करके हैकर फेसबुक दोस्तों से रुपयों की डिमांड कर रहे हैं। ऐसा ही एक वाक्या शहर के पूर्व व्यापारी कैलाश तीर्थानी का सामने आया है। उनकी फेसबुक आइडी को हैक कर लिया गया और उनसे जुड़े हुए मित्रों से कई दिन से अकाउंट नंबर देकर रुपये मांगे जा रहे हैं। मामले की जानकारी कैलाश तीर्थानी के मित्रों ने जब उन्हें दी तो उन्होंने अपना अकाउंट बंद कर दिया। उन्होंने जयपुर में पुलिस की साइबर सेल को भी सूचना दी है। कैलाश तीर्थानी इस समय जयपुर में कारोबार कर रहे हैं।

कैलाश तीर्थानी ने बताया कि हैक करने वाले व्यक्ति के बारे में उन्हें जानकारी मिली है। वह मथुरा का रहने वाला है। उन्हें पहले इसके बारे में जानकारी नहीं मिली थी। उनके मित्रों ने ही अकाउंट हैक होने की जानकारी दी थी। उनके मित्रों से 5 हजार रुपये से लेकर 15 हजार रुपये तक मांगे गए हैं। वहीं समाजसेवी, सोशल एक्टिविस्ट एवं इटावा फेसबुक क्लब के एडमिन आकाशदीप जैन बेटू ने बताया कि उनके मित्र कैलाश तीर्थानी की आइडी हैक करके हैकर द्वारा उनसे 15000 रुपये की डिमांड की गई। उन्होंने मित्र से फोन से बात की तो पता चला किसी ने उनकी आइडी हैक कर ली है। हैकर ने अपना मोबाइल नंबर और अकाउंट नंबर देते हुए रुपये अकाउंट में डालने को उनसे कहा था। वे बताते हैं कि फेसबुक अकाउंट हैक करने के लिए सबसे अधिक फिशिग का उपयोग किया जाता है। इसमें एक फेक पेज बनाकर उस व्यक्ति के पास ईमेल के जरिये भेजा जाता है जिसका अकाउंट हैकर्स हैक करना चाहते हैं जब वो व्यक्ति उस ईमेल में दिए लिक पर क्लिक करता है तो उसके अकाउंट का यूजरनेम, पासवर्ड और बाकी सारी जानकारी हैकर्स के पास आ जाती है। इसलिए अपना फेसबुक अकाउंट किसी अन्य कंप्यूटर पर लॉगइन न करें। ऐसे ईमेल को अनदेखा करें जो आपको नए टैब में फेसबुक अकाउंट ओपेन करने को कहें। कभी भी स्पेमी लिक को ओपेन न करें बेशक वो आपके किसी दोस्त द्वारा ही क्यों न भेजा गया हो। हमेशा क्रोम ब्राउजर का ही उपयोग करें क्योंकि क्रोम ब्राउजर फिशिग पेज को पहचानता है। अपने कंप्यूटर में एंटीवायरस का इस्तेमाल करें। फेसबुक अकाउंट ओपेन करने पर चेक कर लें कि आप फेसबुक डॉट कॉम पर ही हैं न कि किसी और पेज से अकाउंट ओपेन किया हो। अपने फेसबुक अकाउंट पर अपने ईमेल एड्रेस या अन्य निजी जानकारी केवल अपने तक ही सीमित रखें। फेसबुक अकाउंट में सिक्योरिटी से जुड़े सवाल और जवाब कठिन से कठिन रखें ताकि कोई इसे आसानी से न तोड़ सके। आमतौर पर लोग अपने मोबाइल फोन में फेसबुक पासवर्ड को रीसेट करते हैं ऐसे में हैकर्स मॉनिटर एप्स की मदद से आपके सभी एसएमएस पढ़ सकते हैं और कुछ ही सेकेंड में आपका फेसबुक पासवर्ड रीसेट कर उसे हैक कर सकते हैं। कभी भी अननॉन एप्स को फोन में इंस्टॉल ने करें। हमेशा चेक करते रहें कि फोन में कोई संदिग्ध एप तो नहीं है। फेसबुक मैसेंजर पर कोई पैसे मांगे तो पहले उस व्यक्ति से जरूर बात कर लें ताकि सच्चाई पता लग सके।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस