बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे के काम पर बारिश ने लगाया ब्रेक

संवादसूत्र, ऊसराहार : गुरुवार को बारिश होने का असर बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे पर भी पड़ा है। किलोमीटर 291 पर निर्माणाधीन पुल पर अभी लेंटर नहीं पड़ सका है, सिर्फ सरिया का जाल ही बिछाने का काम चल रहा है। बारिश ने इस काम पर भी ब्रेक लगाए रखा। एक्सप्रेस-वे का जुलाई के दूसरे सप्ताह में उदघाटन प्रस्तावित है। किलोमीटर 291 पर आने-और जाने वाले दोनों मार्गो पर निर्माणाधीन पुल पर एक भी छोर पर लेंटर नहीं पड़ पाया है। अपर मुख्य सचिव अवनीश ने निरीक्षण के दौरान मंगलवार तक लेंटर डालने के निर्देश दिए थे, लेकिन बुधवार की शाम तक जाल ही तैयार नहीं हो पाया था। गुरुवार को बारिश होने से काम बंद रहा। कच्ची मिट्टी भरे जाने का काम भी ठप हो गया। उदघाटन में अब 291 पर निर्माणाधीन पुल चुनौती के रूप में है। यदि मौसम साथ दे, तो दो-दिन में लेंटर पड़ने की उम्मीद है। लेंटर पड़ने के बाद सडक और पुल को मिलाने के लिए एप्रोच तैयार की जाती है, जिसमें समय लगता है। पिछले काफी दिनों से कुदरैल में आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे पर बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे को जोड़ने के लिए बने फ्लाईओवर पर एप्रोच बनाने का काम चल रहा है। लेकिन यह भी अभी तक तैयार नहीं हुई है। अब किलोमीटर 291 पर सबसे बड़ी समस्या यह है कि इस स्थान पर आने और जाने वाले दोनों मार्गों पर बनने वाले पुल अधूरे हैं। चित्रकूट से आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे की ओर आने वाले मार्ग पर तो अभी पुल बनाने का बहुत काम बाकी है। चित्रकूट की ओर जाने वाले मार्ग पर पुल बनाने के लिए अभी तक जाल बिछाने का ही काम चल रहा है। इसलिए इस पुल पर फिलहाल वाहनों का आवागमन काफी मुश्किल है, क्योंकि लेंटर पड़ने के बाद कुछ समय उसके सूखने के लिए भी लगेगा। निर्माण करा रही कंपनी दिलीप बिल्डकान के प्रोजेक्ट हैड उत्तम कुमार ने बताया कि गुरुवार को बारिश से दोपहर तक काम रुका था। दोपहर बाद चालू कर दिया गया है। किमी 291 पर लेंटर के लिए जाल तैयार हो चुका है। मौसम साफ रहा तो शुक्रवार को ही लेंटर डालने की तैयारी है।

Edited By: Jagran