संवादसूत्र, बकेवर : किसान सेवा सहकारी समिति गेहूं खरीद केंद्र पर मंगलवार को गेहूं खरीद के अंतिम दिन 500 पैकेट बारदाना आ जाने से गेहूं की खरीद की गई, परंतु बारदाना कम व किसानों का गेहूं अधिक होने से किसानों व समिति के खरीद केंद्र प्रभारी के बीच काफी बहस भी हुई। समिति के अध्यक्ष द्वारा किसानों से बातचीत करके प्रत्येक किसान का 20 क्विटल गेहूं खरीदने का फैसला करके तौल शुरू करायी गई।

सप्ताह भर से अधिक समय से बारदाना न होने से गेहूं की खरीद बाधित चल रही थी। शासन द्वारा गेहूं खरीद की अंतिम तारीख 15 जून घोषित की गई थी। मंगलवार 15 जून को जिला मुख्यालय से 500 पैकेट बारदाना भेजा गया। सोमवार को बारदाना आने की सूचना मिलने पर रात से ही तमाम किसान गेहूं ट्रैक्टर में लाकर सहकारी समिति के गेट पर आकर लग गए थे। सुबह तक दर्जन भर से अधिक ट्रैक्टरों की लाइन समिति केंद्र के बाहर गेट पर लगी नजर आई। समिति के कुछ कर्मचारियों ने अपने कुछ चहेते लोगों के ट्रैक्टर रात में ही केंद्र के गेट खोलकर अंदर करा दिए थे। इस पर किसानों में भारी आक्रोश दिखा। गेहूं अधिक आने व बारदाना कम होने से तौल की व्यवस्था नहीं बन पा रही थी। कोई किसान 50 क्विटल गेहूं तो कोई 70 लेकर आया था। समिति पर गेहूं लदे ट्रैक्टरों की लाइन लगी थी। किसानों की गेहूं तौल को लेकर केंद्र प्रभारी राजीव गोयल से काफी बहस हुई। जानकारी होने पर सहकारी समिति के अध्यक्ष अशोक शुक्ला केंद्र पर पहुंचे। उन्होंने किसानों से व समिति के सचिव से वार्ता की। वार्ता के बाद तय हुआ कि केंद्र पर जो किसानों के ट्रैक्टर मौजूद हैं वह 11 ट्रैक्टर थे। उन सभी किसानों के 20-20 क्विटल गेहूं तौला जाना तय हुआ। क्योंकि बारदाना की मात्रा 500 ही थी। इस समझौते के बाद बकेवर केंद्र पर गेहूं की तौल शुरू की गई।

Edited By: Jagran