जागरण संवाददाता, इटावा : उप्र जल निगम कांट्रेक्टर वेलफेयर एसोसिएशन ने जल निगम कार्यालय पर धरना प्रदर्शन करके छह सूत्रीय मांग पत्र जिलाधिकारी को भेजा। इसमें जल जीवन मिशन के अंतर्गत अन्य प्रांतों से आई प्राइवेट कंपनियों को ठेका दिए जाने को गलत बताया गया। पंजीकृत ठेकेदारों के सामने रोजी रोटी की दुहाई दी गई।

जिलाध्यक्ष अरविद तिवारी का आरोप है कि सरकार जल जीवन मिशन के तहत जल निगम के माध्यम से कराए जाने वाले कार्याें को पंजीकृत ठेकेदारों से न कराकर निजी क्षेत्र के ठेकेदारों से कराकर अन्याय कर रही है।

उनका कहना है कि सरकार की गलत नीतियों के कारण जल निगम के ठेकेदारों के सामने रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया है। इनके परिवार भुखमरी की कगार पर पहुंच गए हैं। उन्होंने पूर्व की भांति निविदाएं आमंत्रित किए जाने की मांग की। पूर्व में कराए गए कार्यों का समय से बिल भुगतान कराया जाए। महामंत्री संजीव अग्रवाल, उपाध्यक्ष सुभाष यादव, सुशील यादव, अमित यादव देवेन्द्र तिवारी, बलवीर यादव, समीर मिश्रा, सौरभ यादव, अमित यादव, सुरेश चौहान मौजूद रहे।

Edited By: Jagran