जागरण संवाददाता, इटावा : बीते दो दिनों से बारिश थमने पर दिन में सूरज की तेज तपिश से वातावरण में उमस और तपिश से जनजीवन बेहाल हो गया। जिसे देखो वही पसीने से तरबतर नजर आ रहा था। तापमान में भी बढ़ोत्तरी हुई इसके तहत सुबह न्यूनतम 26 तो दोपहर में अधिकतम 32 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। शाम के समय तेज हवा के साथ बारिश होने जनजीवन थम गया लेकिन उमस फिर भी कम नहीं हुई, बसरेहर क्षेत्र में कई पेड़ धराशायी हो गए जिससे आवागमन प्रभावित हो गया। बीते करीब 20 दिनों तक झमाझम बारिश से जनजीवन आहत था, बीते दो दिनों से सूरज निकलने से लोगों को राहत मिली थी लेकिन बुधवार को तपिश के दौरान हवा थमने पर उमस-तपिश से बेहाली का आलम नजर आया। शाम सात बजे अचानक तेज हवा के साथ करीब 20 मिनट तक झमाझम बारिश हुई इसके बाद धीमी गति से बारिश का सिलसिला देर शाम तक जारी रहा। इससे जनजीवन थम सा गया, लोगों को जहां का तहां खड़ा रहना पड़ा। डेढ़ घंटे बाद लोगों का आवागमन शुरू होने पर चहल-पहल हुई। बिजली गुल होने से दिक्कत शाम को तेज हवा आने से पूर्व ही शहर व उसके आसपास के क्षेत्र की बिजली गुल हो गई। इससे उमस का प्रभाव और ज्यादा बढ़ गया। इसी के साथ मच्छरों तथा कीट पतंगों की भरमार होने से लोगों का जीना दुश्वार हो गया। देर रात तक विद्युत आपूर्ति बहाल नहीं हो सकी थी। पेड़ गिरने से थमे वाहन

तेज हवा के साथ बारिश होने के दौरान बरेली हाईवे पर बख्तयारपुरा चौराहा से चौबिया के मध्य कई पेड़ गिर गए इससे दोनों ओर के वाहन सड़क पर ही रुक गए। बारिश हल्की होने पर लोगों ने रास्ता सही किया तब वाहनों का आवागमन धीमी गति से शुरू हुआ।

Posted By: Jagran