जागरण संवाददाता, इटावा : फूल अब घर महकाने के साथ किसानों की किस्मत भी महकाएंगे। हर वर्ग के त्योहारों और इत्र व अन्य पदार्थो में फूलों के उपयोग और बाजार में बढ़ती कीमत को देखते हुए सरकार उद्यान विभाग के माध्यम से किसानों को फूलों की खेती के लिए प्रेरित कर रही है। विशेष योजना के तहत एससी-एसटी वर्ग के किसानों को इसके लिए अनुदान भी दिया जाएगा। मिशन योजना के तहत उद्यान विभाग किसानों को निर्धारित लक्ष्य के मुताबिक लहसुन, प्याज, फलों और फूलों की खेती के लिए प्रोत्साहित करके अनुदान प्राप्त कराता है। इस वर्ष अब तक योजना का लक्ष्य निर्धारित नहीं किया गया है। एससी-एसटी वर्ग के लिए विशेष योजना के तहत गेंदा, गुलाब तथा कटरोज की खेती के लिए 2 हेक्टेयर लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इसके तहत जनपद के इस वर्ग के 20 किसानों को फूलों की खेती करने पर लागत का 80 फीसद अनुदान प्राप्त कराया जाएगा। अमरूद की बागवानी फायदेमंद

विभाग को जनपद में 20 हेक्टेयर भूमि में अमरूद की बागवानी कराने का लक्ष्य मिला है। एक हेक्टेयर भूमि में पौधरोपण से करीब 25 हजार रुपए की लागत आती है। सरकार एक हेक्टेयर पर प्रथम वर्ष 11.50 हजार अनुदान प्रदान करती है। दूसरे साल 4500 रुपये का अनुदान प्रदान करती है। जनपद में भरथना, ताखा, सैफई, जसवंतनगर तथा बसरेहर ब्लाक क्षेत्र की भूमि अमरूद की बागवानी के लिए काफी उपर्युक्त है। पहले आओ - पहले पाओ

विशेष योजना के तहत अभी एससी-एसटी वर्ग के 20 लोगों के लिए फूलों की खेती का लक्ष्य रखा गया है। पहले आओ-पहले पाओ के तहत आवेदन करने वालों को अनुदान सूची में शामिल किया जाएगा। मिशन योजना का लक्ष्य सभी वर्गों के लिए निर्धारित होता है। अभी तक इस योजना का लक्ष्य प्राप्त नहीं हुआ है।

- राजेंद्र कुमार साहू, जिला उद्यान अधिकारी

Posted By: Jagran