जासं, इटावा : केंद्रीय मजदूर संगठनों के आह्वान पर 26 नवंबर को होने वाली देशव्यापी आम हड़ताल में आशा कर्मचारी यूनियन पूरी ताकत के साथ भाग लेकर हड़ताल को सफल बनाएगी। यह निर्णय आशा कर्मचारी यूनियन की जिला कमेटी बैठक में लिया गया।

यह जानकारी आशा कर्मचारी यूनियन की जिला मंत्री संगीता ने दी है। उन्होंने कहा कि देश में चल रहे कोरोना संकट काल में आशाओं, संगनियों ने स्वास्थ्य विभाग के निर्देशों का पालन कर अपनी जान की परवाह किए बिना मुस्तैदी से काम करती आ रही हैं। इस एवज में मात्र 30 रुपये रोज यानी एक हजार रुपया माह दिया गया, जो दो माह से नहीं दिया जा रहा है। सरकारें आशाओं की समस्याओं की तरफ कतई ध्यान नहीं दे रही हैं। आशा कार्यकर्ता भारी संकट से गुजर रही हैं। ऐसे समय में अब वह चुप बैठने वाली नहीं हैं। 26 नवंबर की हड़ताल में व्यापक भागीदारी कर हड़ताल को सफल बनाएंगी। यूनियन के प्रदेश कमेटी नेता अमर सिंह शाक्य ने कहा कि केंद्र व राज्य सरकारें आशा, संगनियों के साथ भेदभाव कर रही हैं। एक तरफ केंद्रीय व राज्य कर्मचारियों को बोनस देकर दीपावली का तोहफा देने की घोषणा की गई है। आशा संगनियों को प्रदेश सरकार द्वारा पूर्व घोषित 750 रुपये मानदेय बढ़ोतरी को अभी तक लागू नहीं किया गया है। शकुंतला, सुमित्रा, पूनम, ऊषा, संगीता यादव, सुनीला भदौरिया, शशि देवी, ओम कांति, रजनी, विजय देवी, रेखा आदि ने भी हड़ताल सफल बनाने की अपील की है।

Edited By: Jagran