जागरण संवाददाता, एटा: माध्यमिक शिक्षा परिषद ने सबसे पहले परीक्षाफल घोषित कर परीक्षार्थियों की मार्कशीट व प्रमाणपत्र भी भेज दिए हैं। इस साल भी स्कूलों की कारगुजारी हजारों परीक्षार्थियों पर भारी पड़ती नजर आ रही है। चार दर्जन ऐसे स्कूलों को चिन्हित किया गया है, जिन्होंने कुछ बाहरी परीक्षार्थियों को बिना अनुमति के ही परीक्षा में सम्मिलित करा दिया।

माध्यमिक शिक्षा में पिछले कई सालों से नया नियम लागू कर दिया गया है। बाहरी परीक्षार्थियों को स्थानीय स्कूलों में प्रवेश उस स्थिति में दिया जा सकता है जब उनकी पत्रावलियां जिला स्तर पर उपलब्ध कराकर अनुमति ली जाए। बोर्ड से भी उनका अनुमोदन कराना जरूरी है। इसके बावजूद भी स्थिति यह है कि जिले के 48 स्कूलों ने निर्देशों को धता बताते हुए बाहरी परीक्षार्थियों को प्रवेश देने के बाद परीक्षा फार्म जमा करा दिए और बाद में परीक्षा भी दिला दी। अब जब बोर्ड ने स्कूलों की मनमानी पकड़ ली तो कार्रवाई के रूप में फिलहाल इन स्कूलों के परीक्षार्थियों के मार्कशीट लिफाफे रोक लिए हैं। डीआइओएस एसपी यादव ने संबंधित स्कूलों को बोर्ड द्वारा दिए गए निर्देशों के अनुरूप स्थिति स्पष्ट करने तथा बोर्ड कार्यालय के समक्ष प्रस्तुत होने को कहा है।

आज से वितरित होंगे मार्कशीट लिफाफे

अपनी मार्कशीटों का इंतजार कर रहे परीक्षार्थियों को जल्दी ही मार्कशीट मिल जाएंगीं। विभागीय कार्यालय से स्कूलों के लिए लिफाफों का वितरण शुक्रवार से शुरू कराया जा रहा है। सभी प्रधानाचार्यों को निर्देशित किया गया है कि वह मांगी गई सूचनाओं के साथ उपस्थित होकर लिफाफे प्राप्त कर लें ताकि परीक्षार्थियों को उनका वितरण समय से हो सके।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस