एटा, जागरण संवाददाता: घड़ी में जैसे ही 9 बजे तो लोग अपने दरवाजे पर आ गए। सबके हाथ में दीये, मोमबत्ती, किसी ने छत की बालकनी से टॉर्च जलाई, तो कोई अपनी दहलीज पर दीया रखते नजर आया। बिजली की बत्तियां बुझा दी गईं। सामूहिक रोशनी ने कोरोना के खिलाफ जंग को लेकर एकजुटता का अहसास करा दिया। वायरस को लेकर जो अंधकार छाया है उसे लोगों द्वारा की गई रोशनी ने चीर दिया और सबके समर्थन से उम्मीद की किरन फूट निकली। एटा वासियों ने प्रधानमंत्री के आह्वान को भरपूर समर्थन दिया। 9 मिनट और लाखों दीए सबकी जुबां पर एक ही प्रार्थना कि कोरोना को भगाओ।

एक-दो नहीं पूरे 9 मिनट यानी कि 9 बजे से लेकर 9 मिनट तक लोग मोमबत्तियां हाथों में लेकर खड़े रहे। इस दौरान तमाम लोगों ने दरवाजों पर दीपमाला बनाईं। कुछ ने दीये जलाकर लिख दिया गो कोरोना गो। हर कोई उत्साहित नजर आया।

शहर की विभिन्न कालोनियों और बस्तियों में हर ओर दीपावली जैसी दीपमाला का नजारा दिखाई दे रहा था। सिर्फ नहीं थीं तो बिजली की झालरें। इन दीयों ने लोगों को अंधेरे में रोशनी की किरण दिखाई और सबके बीच यही संदेश गया कि कोरोना के खिलाफ हम सब एकजुट हैं। शहर की चाहें कोई पॉश कालोनी हो या गरीबों की बस्ती, मध्यम वर्गीय लोग हों या अन्य। सभी ने जबरदस्त एकजुटता दिखाई। इस दौरान पुलिस प्रशासन भी हालातों को लेकर निगरानी करता रहा।

इसके अलावा अलीगंज, जलेसर, राजा का रामपुर, जैथरा, सकीट, मिरहची, मारहरा, निधौली कलां, अवागढ़ आदि कस्बाई इलाकों और ग्रामीण क्षेत्रों में भी लोगों ने रोशनी की। गांवों में भी उत्साह का आलम था और सब कोरोना के विरुद्ध जंग में शामिल दिखाई दिए। रेलवे रोड चौराहे पर जिलाधिकारी सुखलाल भारती, एसएसपी सुनील कुमार सिंह समेत सभी पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों ने दीये जलाकर रोशनी की। किया था रोशनी का आह्वान, मन गई दीवाली

-------------------------------------

प्रधानमंत्री ने तो दीये जलाने का आह्वान किया था, लेकिन जोश के चलते लोगों ने जमकर पटाखे फोड़े और आसमान आतिशबाजी से नहा उठा। लोगों ने जागरूकता के साथ खूब उत्साह दिखाया। 9 बजे से ही पटाखे चलने शुरू हो गए और 9 बजकर 9 मिनट की समय सीमा समाप्त होने के बावजूद धमाकों की आवाज सुनाई देती रही।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस