एटा, जागरण संवाददाता: कोरोना संकटकाल में लोग अपनों के पास पहुंच रहे हैं। मगर एक मां ऐसी निकली जो अपनी सात साल की बेटी को रोडवेज बस स्टैंड पर छोड़कर चली गई। छह दिन हो गए कोई भी परिवार वाला इस बच्ची को लेने पुलिस के पास नहीं पहुंचा। शहर कोतवाली पुलिस बच्ची की देखभाल कर रही है। यह बच्ची परिवार और गांव के बारे में जानकारी नहीं दे पा रही।

10 जून को बस स्टैंड पर एक बच्ची पुलिस को मिली जिसके पास एक बैग था। पूछताछ की तो बच्ची सिर्फ इतना बता पाई कि वह अपनी मम्मी और चाचा के साथ आई थी। मां यह कहकर चाचा के साथ चली गई कि अब तुझे अकेले ही रहना है। बच्ची ने अपना नाम नंदिनी बताया है। पुलिस ने वालंटियर ग्रुप पर भी बच्ची की सूचना प्रसारित की मगर फिर भी उसके परिवार के बारे में अभी तक कोई जानकारी नहीं मिली। बस स्टैंड पर अन्य लोगों से पूछताछ की गई तो पता चला कि एक महिला युवक के साथ बच्ची के पास बैठी दिखाई दी थी फिर वे अचानक गायब हो गए। सवाल यह है कि आखिर ऐसी कौन मां है जो इतनी निर्दयी होकर मासूम को भटकने के लिए छोड़ गई। इंसपेक्टर संजीव त्यागी ने बताया कि बच्ची के परिवार की तलाश की जा रही है मगर कोई जानकारी नहीं मिल पाई है।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस