एटा, जासं। नगरीय क्षेत्र में खुले मैनहॉल हादसों को न्योता दे रहे हैं। पालिका प्रशासन शहर की इस अव्यवस्था से अनजान है। शहर के कई मुहल्ले ऐसे हैं जहां मैनहॉल खुले पड़े हैं। आए दिन इन खुले मैनहॉल में जहां स्कूली बच्चों के वाहन फंसते रहते हैं, वहीं बड़े वाहन भी इनमें फंसकर राहगीरों और मुहल्लावासियों की मुसीबत का सबब बनते हैं।

मैनहॉल खुले होने की स्थिति शहर में किसी एक स्थान की नही हैं, बल्कि कई इलाकों की है। मंगलवार को शहर के कचहरी रोड स्थित अवागढ़ हाउस की एक गली में देर तक ट्रैक्टर-ट्राली फंसी रही। जबकि इससे पहले भी हाईवे, ठंडी सड़क, बली मोहम्मद चौराहा आदि मुहल्लों में वाहन आए दिन फंसते रहते हैं। शहर की तमाम गलियों में स्थिति यह है कि वाहनों को बड़ी ही सावधानी से निकालना पड़ता है। अगर जरा सी चूक हो जाए तो गाड़ी का पहिया सीधे मैनहॉल में चला जाता है। नागरिकों ने कई बार इसके लिए आवाज उठाई, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। ---

मैनहॉल अतिक्रमणकारियों की मनमानी के कारण खुले हैं। सफाई में दिक्कत के कारण उन्हें खोला जाता है। लोगों को पालिका का सहयोग करना चाहिए।

मीरा गांधी पालिकाध्यक्ष एटा

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप